वजन कम करने के लिए Green Coffee कैसे तैयार करें?

By | March 19, 2018

green coffee hindi

दुनिया में लोगों के कई पसंदीदा पेय हैं लेकिन यदि हम किसी एक ऐसे पेय की बात करें जो पूरी दुनिया भर के लोगों को पसंद आता है तो वह है ‘कॉफी’। यह एकमात्र ऐसा पेय है जिसे दुनिया के हर देश के लोग पसंद करते हैं। विश्व के अलग-अलग क्षेत्रों के खान-पान विभिन्न हो सकते हैं लेकिन हर जगह के लोग कॉफी पीते हैं, खासकर सुबह के समय।

कॉफी कई प्रकार की होती है, जैसे ब्लैक कॉफी, ब्राउन कॉफी और ग्रीन कॉफी। कॉफी के प्रकार को व्यक्ति अपने स्वाद या खुशबू की पसंद के आधार पर चुनता है या फिर इसके जैविक असर के आधार पर लेता है। उदाहरण के लिए, कॉफी (ब्लैक कॉफी) को कई लोग कैलोरियों से दूर रहने के लिए लेते हैं, इसे रोज़मर्रा के कामों मे मुस्तैदी और एकाग्रता के लिए लिया जाता है या फिर मधुमेह, मोटापे, हृदय रोगों आदि एवं वजन कम करने के लिए भी इसका उपभोग किया जाता है।

ग्रीन कॉफी लेने का ऐसा ही एक लाभ है वजन में कमी। कई लोग ग्रीन कॉफी पीते हैं ताकि वे पतले रहकर कैलोरियों से दूर बने रह सकें और पूरे दिन उनका शरीर फिट और मुस्तैद बना रहे।

ग्रीन कॉफी एक क्रांतिकारी मोटापानाशक उत्पाद है.

green coffeeग्रीन कॉफी एक क्रांतिकारी मोटापानाशक उत्पाद है. ग्रीन कॉफी रक्त शर्करा का स्तर गिरा देती है और, इस प्रकार से शरीर में मोटापा घटाने की प्रक्रिया को शुरू कर देती है. साथ ही साथ में भूख में कमी करके, यह शरीर को प्राकृतिक रूप से वजन घटाने की तरफ अग्रसर करती है.

एक क्लिक में खरीदें

ग्रीन कॉफी से वजन कम कैसे हो सकता है?

ग्रीन कॉफी को या तो साबुत कॉफी की हरी फलियों या हरी कॉफी फलियों के पाउडर से बनाया जाता है। हरी फलियों को एक विशिष्ट उद्देश्य के लिए चुना जाता है, वह है क्लोरोजेनिक एसिड के जैविक प्रभाव को बचाए रखना। क्लोरोजेनिक एसिड एक जैविक रूप से सक्रिय पदार्थ है जो सिर्फ ग्रीन कॉफी फलियों में पाया जाता है लेकिन भुनी हुई कत्थई फलियों में नहीं होता क्योंकि भूनने से कॉफी का क्लोरोजेनिक एसिड नष्ट हो जाता है।

ग्रीन कॉफी फलियों के वजन कम करने के गुणों के पीछे क्लोरोजेनिक एसिड होता है। यह शरीर के अंदर कई तरीकों से काम करता है। क्लोरोजेनिक एसिड से शरीर के अंदर के वसा भंडार टूट जाते हैं। इससे लेप्टिन हॉरमोन भी नियंत्रित होता है जो भूख लगने के एहसास को और कम कर देता है। क्लोरोजेनिक एसिड एक एंटीऑक्सीडेंट की तरह भी काम करता है और नई वसा कोशिकाओं को बनने को रोकता है। यह पीपीएआरअल्फा नाम की एक जीन की क्रिया को भी तेज कर देता है जो फैटी एसिड के मैटाबॉलिज़्म में लिप्त होती है। ये सभी प्रक्रियाएँ एक साथ मिलकर वजन कम करने में योगदान देती है।

वजन कम करने के लिए ग्रीन कॉफी कैसे बनाएँ?

green coffee विधि

फलियों के स्त्रोत के आधार पर ग्रीन कॉफी को बनाने के कई तरीके होते हैं:

  • साबुत ग्रीन कॉफी बीन्स
  • ग्रीन कॉफी बीन्स का पाउडर
  • ग्रीन कॉफी बीन्स का सत्त

इन स्त्रोतों से वजन कम करने के लिए ग्रीन कॉफी बनाने की रेसिपी निम्नानुसार है:

साबुत ग्रीन कॉफी फलियाँ

सामग्री

  •   साबुत ग्रीन कॉफी फलियाँ
  •   पानी
  •   कॉफी बनाने के लिए गैस

विधि

  •  ग्रीन कॉफी फलियाँ लें और उन्हे बहते पानी में धोकर उन पर जमे धूल-कचरे वगैरह को साफ कर लें।
  •  इसके बाद फलियों को पानी में भिगो दें (कॉफी पीने के लिए आवश्यक पानी)।
  •  फलियों को पानी में कम से कम 10 मिनट तक उबलने दें और फिर लगातार हिलाएँ।
  •  इसके बाद गैस बंद कर दें और फलियों को पानी में 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • अब पानी को एक कप में छलनी से छानते हुए डालें और फलियाँ अलग करके कॉफी का आनंद लें।
  •  ग्रीन कॉफी फलियाँ (इन्हें पीसकर पाउडर बना लें) या ग्रीन कॉफी बीन्स पाउडर
  •  मिक्सी
  •  पानी
  •  कॉफी बनाने के लिए गैस

विधि

  • ग्रीन कॉफी फलियों को बहते पानी में धोकर कुछ समय तक सूखने रख दें।
  • इसके बाद फलियों को एक मिक्सी में पीस लें।
  • मार्केट से बना-बनाया ग्रीन कॉफी बीन पाउडर भी खरीदा जा सकता है।
  • अब उबलते पानी में ग्रीन कॉफी बीन्स पाउडर डालें और इसे कम से कम 10 मिनट तक हिलाएँ। बचे हुए पाउडर को बाद में उपयोग के लिए रख लें।
  • अब गैस बंद करके मिक्सचर को 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • इसके बाद एक कप में कपड़े से छानकर पानी डालें और ग्रीन कॉफी पी लें।

ग्रीन कॉफी बीन्स सत्त

सामग्री

  • ग्रीन कॉफी बीन्स एक्सट्रैक्ट

विधि

  • मार्केट से ग्रीन कॉफी बीन्स एक्सट्रैक्ट खरीद लें जो पाउडर के रूप में मिलता है।
  • इसे या तो सीधे गर्म/ठंडे पानी में मिलाकर पी सकते हैं और तब भी आपको इसके वजन कम करने के सभी गुणों का लाभ मिलेगा। ग्रीकोबे मार्केट में उपलब्ध एक ऐसा ही प्रोडक्ट है जो बिना किसी रसायन या अन्य पदार्थों से रहित शुद्ध ग्रीन कॉफी सत्त है। इसका स्वाद भी बहुत अच्छा है। यह पाउच में मिलता है और उपयोग में बड़ा सुविधाजनक होता है।

ग्रीन कॉफी का स्वाद बहुत सादा होता है जिसे आप शहद या इलायची मिलाकर फ्लेवर्ड कर सकते हैं।

ग्रीन कॉफी को घर पर ही इसके किसी भी स्त्रोत से बनाकर दुबले होना बहुत आसान है। इसे नियमित रूप से लेने से इसके फायदे काफी जल्दी मिलने लगते हैं। एक प्राकृतिक उपचार होने के कारण इसके कोई साइड-इफेक्ट नहीं हैं। अपनी नियमित चाय या कॉफी की जगह ग्रीन कॉफी लेना बहुत फायदेमंद होता है।

एक स्वस्थ जीवनशैली की शुरुआत करें ग्रीन कॉफी के बस एक कप से!

वजन कम करने के लिए Green Coffee कैसे तैयार करें?
3.8 (76.36%) 11 votes

संबंधित पोस्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *