Artro Neo: प्रभाव, काम का तरीका और वैकल्पिक उत्पाद

By | October 3, 2018

एक्सर्साइज़ करते समय आपको मसल्स में दर्द कितनी बार होता है? क्या आपको अर्थिराइटिस, गठिया या मसल एवं हड्डियों की प्रणाली के अन्य रोग हैं? हो सकता है आपने इसके लिए कई उपाय आजमाएँ हों और इस प्रसिद्ध Artro Neo स्प्रे को भी लगा कर देखा हो। लेकिन इस दवा को लेने के पहले आपको पहले यह समझना होगा कि यह किसके लिए उपयुक्त है और किसके लिए नहीं।

Artro Neo: प्रभाव, काम का तरीका और वैकल्पिक उत्पाद

Artro Neo क्या है?

Artro Neo एक दर्दनिवारक स्प्रे है जिसे जोड़ों और मसल के दर्द को ठीक करने के लिए उपयोग किया जाता है। यह उपयोग में आसान है। बस इसे दर्द की जगह पर स्प्रे कर दें और यह त्वचा में तेजी से अवशोषित हो जाता है। उत्पादकों के अनुसार, Artro Neo के घटक पूरी तरह हानिकारक तत्वों से मुक्त हैं।

  • पहाड़ी आर्निका सत्त। इससे जोड़ों की परिस्थित ठीक होती है।
  • अरंडी का तेल। इससे आपके जोड़े आर्थराइटिस या ओस्टियोपोरोसिस के बाद दोबारा स्वस्थ हो जाते हैं।
  • लैवेंडर का सत्त। इससे आपके जोड़ आर्थीराइटिस या ओस्टीयोपोरोसिस के बाद फिर से स्वस्थ हो जाते हैं।
  • कपूर। दर्द से राहत देता है।

आपको ऑनलाइन Artro Neo के बारे में कई रिव्यू और कमेन्ट मिलेंगे जो अच्छे भी हैं और बुरे भी।

ये रहे इनमें से कुछ।

चित्रा:

35 की उम्र में मुझे वात, आर्थेराइटिस और अन्य बीमारियों ने घेर लिया था। मेरे हड्डियों के डॉक्टर ने कहा कि मुझे दूसरी दवाओं के साथ Artro Neo भी लगाना चाहिए। यह एक अच्छा दर्द-निवारक है। लेकिन दुर्भाग्य से यह बीमारी को जड़ से ठीक नहीं करता। इससे तेज दवाई लेने की जरूरत है।

महेंद्र:

मैं 54 का हूँ। मुझे आज आर्थराइटिस से परेशान होते हुए 10 साल हो चुके हैं। मैं बड़ी परहेज से चलता हूँ और एक्सर्साइज़ करता हूँ। लेकिन यह पर्याप्त नहीं है। मैं हाल ही में डॉक्टर के पास गया था जो बोले कि मेरा आर्थराइटिस बिगड़ता जा रहा है। मेरा बेटा बहुत घबरा गया और मेरे लिए कई तरह की दवाइयाँ ले आया जिसमें Artro Neo स्प्रे भी था। मैं इसे दवाइयों और इंजेक्शन की तुलना में ज़्यादा अच्छे से सहन कर पाता हूँ। और इससे कपड़ों पर कोई दाग भी नहीं पड़ते। इससे दर्द पूरी तरह चला जाता है। अब बगीचे में काम करना और अपने कुत्ते को घुमाना फिर से मजेदार हो गया है क्योंकि घुटनों में दर्द नहीं होता।

 

विशाल:

मैं एक बॉडीबिल्डिंग का फैन हूँ। मुझे कुछ सालों पहले जिम में चोट लग गई थी। इसके कारण मुझे एढ़ी और घुटनों पर ओर्थोपेडिक फिक्सेटर पहनने होते हैं। अभी भी कभी-कभी दर्द होता है। और जब दर्द होता है तो Artro Neo से ही आराम मिलता है। दर्द 5 मिनट में ही चला जाता है।

 

Artro Neo क्या है?

देखिए, Artro Neo मसल्स, हड्डियों और जोड़ों के लिए एक दर्दनिवारक स्प्रे है। यह एक बहुत अच्छी क्वालिटी का प्रोडक्ट है जिससे दर्द पूरी तरह चला जाता है। लेकिन कुछ ऑनलाइन दुकानें और विज्ञापनकर्ता इस प्रोडक्ट को आर्थराइटिस और हड्डियों की अन्य बीमारियों के इलाज के रूप में दर्शाते हैं जो पूरी तरह गलत है। इस कारण से कई लोग इसे गलत उम्मीद से खरीद लेते हैं। हालांकि इसके दर्दनिवारक होने के कारण यह उपयोग में जरूर आता है।

लेकिन इसे लगाने से बीमारी नहीं जाती। कई मामलों में तो मरीज बस अपने दर्द को Artro Neo लगा-लगा कर दबाता रहता है और बाद में सीधे ऑपरेशन करना पड़ता है या व्हील-चेयर पर ही बैठना पड़ता है।

यही कारण है कि सर्जन, हड्डी के डॉक्टर और दवाई कंपनियाँ आपको चेतावनी देती अहीन:

इलाज बीमारी का करें, दर्द का नहीं। दर्द तो केवल बीमारी से शरीर को हो रहे नुक्सान का लक्षण मात्र हैं।

आप पूछेंगे: इस तरह के नुक्सान से कैसे जीता जा सकता है? आपको बीमारी की जगह की त्वचा नहीं बल्कि समस्या वाली जगह (हड्डी, जोड़ आदि) पर इलाज करना चाहिए। यदि आप बीमारी का बाहर से इलाज करते रहेंगे तो किसी स्प्रे से समस्या हल नहीं होगी। ये त्वचा के अंदर गहराई तक नहीं जाता। इस नजरिए से BoosterGel क्रीम स्प्रे का एक बहुत अच्छा विकल्प है। स्प्रे की तुलन में यह त्वचा में ज़्यादा गहराई तक जाता है। इसके घटक त्वचा की गहरी परतों में प्रवेश करके समस्या वाली जगहों पर सीधे असर करते हैं। इस क्रीम से अच्छी सिंकाई हो जाती है। यह रक्त प्रवाह को तेज करके सक्रिय घटकों को समस्या वाली जगह पर ले जाने में मदद करती है।

BoosterGel किससे बनी है?

BoosterGel में कई तरह के वनस्पति जनित चिकित्स्कीय घटक होते हैं। ये रहे इनमें से कुछ:

  • सोयाबीन का तेल;
  • मक्के का तेल;
  • केल्प का सत्त;
  • रोज़मेरी पत्तियों का तेल;
  • कल्ला सत्त;
  • कार्बमाइड।

और ये तो बस घटकों की एक छोटी सी सूची है।

BoosterGel किससे बनी है?

Booster Gel कैसे उपयोग करें?

  • इसे समस्याग्रस्त जगह पर लगाएँ।
  • इसके बाद हल्के से मलें।
  • इस जगह पर 10 मिनट तक कोई खिंचाव या दबाव न दें।
  • BoosterGel को दिन में 1-3 बार लगाएँ।

जल्दी ठीक होने के लिए अतिरिक्त उपाय

  1. शारीरिक व्यायाम के बीच आराम जरूर लें। उदाहरण के लिए यदि आप किसी दुकान में असिस्टेंट, कोच या बिल्डर हैं और दिन में 8 घंटे काम करते हैं तो कम से कम 8 घंटे आराम जरूर लें। आराम के समय मसल प्रणाली वापस ठीक होती है और उसमें रक्त और ऑक्सिजन प्रवाह बढ़ जाता है। आप जितना ज्यादा आराम करेंगे, आपकी मसल और हड्डियों की प्रणाली उतनी ही कम घिसेगी।
  2. बीमारी ज़्यादा बढ़ जाने पर बदल-बदल कर गर्म और ठंडे कंप्रेस लगाएँ। कांट्रास्ट कंप्रेस से रक्त प्रवाह तेज होता है और BoosterGel के पोषक पदार्थ समस्याग्रस्त जगह पर जल्दी पहुँचते हैं।
  3. ताजी हवा में नियमित रूप से व्यायाम करें।
  4. वजन कम रखने का प्रयास करें। आपका वजन जितना ज़्यादा होगा, आपकी मसल्स और हड्डियों पर उतना ही लोड पड़ेगा।
  5. आराम पाने के लिए आपको खास व्यायामों से जोड़ों के पास की मसल्स को मजबूत करना होगा।
  6. यदि आपको ऐसा दर्द हो रहा हो जो दर्द-नाशकों से ठीक न होता हो तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।
  7. BoosterGel से इलाज का कोर्स 1 महीने का होता है। लेकिन गंभीर मामलों में इसे 60 दिन भी किया जा सकता है।

Booster Gel कैसे उपयोग करें?

Booster Gel कहाँ से खरीदा जा सकता है?

आंकड़े दर्शाते हैं कि 5 करोड़ से भी ज़्यादा बूढ़े और 3 लाख से ज़्यादा युवा पुरुष और महिलाएं मसल्स और हड्डियों के रोगों से परेशान होते हैं। BoosterGel इनसे अच्छे से निपट सकती है।

इसे कहाँ से खरीदें? क्वालिटी की 100% गारंटी केवल उत्पादक ही दे सकते हैं। इसलिए BoosterGel को हमेशा उत्पादक की वेबसाइट से ही खरीदें। इस महीने के अंत तक इस वेबसाइट में 50% छूट मिल रही है।

तो यदि आप हड्डियों के रोगों से मुक्त होकर पैसे बचाना चाहते हैं तो और समय बर्बाद न करें!

स्वस्थ रहें!

Artro Neo: प्रभाव, काम का तरीका और वैकल्पिक उत्पाद
3.5 (69.09%) 11 votes

संबंधित पोस्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *