स्तंभन दोष के बारे में क्या-क्या जानना चाहिए है?

By | October 22, 2018

किसी पुरुष को स्तंभन दोष से पीड़ित तब माना जाता है जब उसे नियमित रूप से यौन संबंध बनाने में कठिनाई हो रही हो या संभोग करने के लिए पर्याप्त सख्ती से खड़ा करने और खड़ा बनाए रखने के लिए बहुत ज़्यादा मेहनत करनी पड़ रही है, या यदि यह दोष अन्य यौन गतिविधि में हस्तक्षेप कर रहा हो।

ज्यादातर पुरुषों ने कभी न कभी अपने लिंग को कठोर बनाने और बना रहने में कुछ कठिनाई का अनुभव किया है। हालांकि स्तंभन दोष (इरेक्टाइल डिसफंक्शन (ईडी)) को चिंता का विषय केवल तब माना जाता है जब कई मौकों पर संतोषजनक यौन प्रदर्शन असंभव हो गया हो।

इस खोज के बाद से कि सिल्डेनाफिल दवा, या वियाग्रा, लिंग को कठोर रखने (पीनाइल एरेक्शंस) को प्रभावित करती है, ज्यादातर लोगों को पता चल गया है कि स्तंभन दोष एक इलाज योग्य चिकित्सा स्थिति है।

यौन प्रदर्शन में किसी समस्या से ग्रस्त पुरुष अपने डॉक्टर से बात करने में अनिच्छुक हो सकते हैं, क्योंकि उनके लिए यह एक शर्मनाक मुद्दा हो सकता है।

हालांकि, स्तंभन दोष को आज अच्छी तरह से समझ लिया गया है, और इसके बहुत से उपचार उपलब्ध हैं।

यह MNT Knowledge Center लेख इस समस्या का सामना कर रहे लोगों या उनके करीबी लोगों के लिए उपयोगी जानकारी प्रदान करता है।

स्तंभन दोष से जुड़े तथ्थ:

  • स्तंभन दोष को यौन संबंध बनाने के लिए आवश्यक कठोरता हासिल करने और बनाए रखने में लगातार कठिनाई होने के रूप में परिभाषित किया जाता है।

  •  इसके कारण आमतौर पर चिकित्सकीय होते हैं लेकिन ये मनोवैज्ञानिक भी हो सकते हैं।

  •  जैविक कारण आमतौर पर लिंग को रक्त की आपूर्ति करने वाले रक्त वाहिकाओं या नसों को प्रभावित करने वाली किसी मेडिकल स्थिति का परिणाम होते हैं।

  •  कई डॉक्टर द्वारा लिखी दवाएँ, शौकिया दवाएँ, शराब और धूम्रपान, ये सब भी स्तंभन दोष का कारण बन सकते हैं।

कारण

निम्न में से किसी भी प्रणाली में समस्याएँ होने से सामान्य सीधा/खड़ा होने पर प्रभाव पड़ सकता है:

  • रक्त बहाव
  • तंत्रिका आपूर्ति
  • हार्मोन

शारीरिक कारण

लगातार जारी स्तंभन समस्याएँ होने पर किसी चिकित्सक से परामर्श करना हमेशा अच्छा होता है, क्योंकि यह किसी गंभीर मेडिकल स्थिति के कारण भी हो सकता है।

चाहे कारण सरल हो या गंभीर, उचित निदान किसी भी अंतर्निहित चिकित्सा मुद्दों को हल करने में मदद कर सकता है और यौन कठिनाइयाँ हल कर सकता है।

निम्नलिखित सूची स्तंभन दोष के सबसे आम शारीरिक या जैविक कारणों का सार देती है:

  • दिल की बीमारी और रक्त वाहिकाओं का संकुचित होना
  • मधुमेह
  • उच्च रक्त चाप
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल
  • मोटापे और मैटाबोलिक रोगलक्षण
  • पार्किंसनस (Parkinson’s) रोग
  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस
  • थायराइड में गड़बड़ी और टेस्टोस्टेरोन की कमी सहित हार्मोन संबंधी विकार
  • लिंग की संरचनात्मक या रचनात्मक विकार, जैसे पेरोनी (Peyronie) रोग
  • कोकीन सहित धूम्रपान, शराब, और मादक द्रव्यों का सेवन
  • प्रोस्टेट (पौरुष ग्रंथि) रोग के उपचार
  • सर्जिकल जटिलताएँ
  • श्रोणि (pelvic) क्षेत्र या रीढ़ की हड्डी में चोटें
  • श्रोणि क्षेत्र के लिए विकिरण चिकित्सा

एथरोस्क्लेरोसिस रक्त प्रवाह की समस्याओं का एक आम कारण है। एथरोस्क्लेरोसिस लिंग में धमनियों के संकीर्ण होने या उनके जाम हो जाने का कारण बनता है, जिससे स्तंभन के लिए आवश्यक रक्त प्रवाह लिंग तक नहीं जा पाता।

कई डॉक्टर की लिखी दवाओं का इस्तेमाल भी स्तंभन दोष का कारण बन सकता हैं जिसमें नीचे लिखी दवाएँ शामिल हैं। चिकित्सकीय दवा लेने वाले किसी भी व्यक्ति को अपनी दवाओं को लेना बंद करने या बदलने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए:

  • उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए दवाएँ
  • दिल की दवाएँ जैसे कि डिगॉक्सिन
  • कुछ मूत्रवर्धक
  • दवाएँ जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र पर कार्य करती हैं, जिनमें कुछ नींद की गोलियां और उत्तेजक दवाएँ (एमफिटेमीन) शामिल हैं
  • चिंता (एनज़ायटी) उपचार
  • एंटीड्रिप्रेसेंट्स (अवसादरोधी), जिसमें मोनोमाइन ऑक्सीडेस इनहिबिटर (एमएओआई), चुनिंदा सेरोटोनिन रीअपटेक इनहिबिटर (एसएसआरआई), और ट्राईसाईक्लिक एंटीड्रिप्रेसेंट्स (अवसादरोधी) शामिल हैं
  • ओपियोइड दर्दनाशक
  • कीमोथेरेपीटिक एजेंटों सहित कुछ कैंसर की दवाएँ
  • प्रोस्टेट (पौरुष ग्रंथि) उपचार दवाओं
  • एंटीचोलिनेर्जिक्स (कोलीनधर्मरोधी)
  • हार्मोन की दवाएँ
  • पेप्टिक अल्सर की दवा सिमेटिडाइन

मनोवैज्ञानिक कारण

दुर्लभ मामलों में ऐसा भी हो सकता है कि किसी पुरुष को हमेशा के लिए स्तंभन दोष हो और वह कभी भी कठोरता हासिल नहीं कर पाए। इसे प्राथमिक स्तंभन दोष कहा जाता है, और यदि कोई स्पष्ट शारीरिक विकृति या शारीरिक समस्या नहीं है तो इसका कारण लगभग हमेशा मनोवैज्ञानिक होता है। इस तरह के मनोवैज्ञानिक कारकों में शामिल हो सकते हैं:

  • अपराधबोध
  • अंतरंगता का डर
  • डिप्रेशन
  • गंभीर चिंता

स्तंभन दोष के अधिकांश मामले ‘सहायक’ होते हैं। इसका मतलब है कि कठोर/सीधा होने की कार्यप्रणाली सामान्य रही हो लेकिन बाद में समस्याग्रस्त हो गई हो। नई और हठी समस्या के कारण आमतौर पर शारीरिक होते हैं। कभी कभी, मनोवैज्ञानिक कारक स्तंभन दोष का कारण बनते हैं या इसमें योगदान देते हैं। इसमें इलाज योग्य मानसिक स्वास्थ्य बीमारियों से लेकर रोजमर्रा की भावनात्मक स्थिति तक के कारक हो सकते हैं जो ज्यादातर लोग कभी न कभी अनुभव करते हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि चिकित्सा और मनोवैज्ञानिक कारणों के बीच ओवरलैप हो सकता है। उदाहरण के लिए, यदि कोई आदमी मोटापे से ग्रस्त है, तो रक्त प्रवाह में परिवर्तन उसकी कठोरता को बनाए रखने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है, जो एक शारीरिक कारण होता है। हालांकि यह भी हो सकता है कि पुरुष में आत्म-सम्मान की कमी हो जो कठोरता को बनाए रखने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है और यह एक मनोवैज्ञानिक कारण होता है।

क्या साइकिल सवारी स्तंभन दोष का कारण बनती है?

प्रश्न बनता है कि साइकिल चलने से पुरुषों के स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ रहा है। कुछ शोधों ने इस चिंता को उठाया है कि जो लोग लंबे समय तक नियमित रूप से साइकिल चलाते हैं, उनमें नामर्दी और प्रोस्टेट कैंसर जैसी पुरुषों की अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्यों के अलावा स्तंभन दोष का भी उच्च जोखिम हो सकता है।

इस जांच के लिए हालिया अध्ययन में पाया गया कि साइकिल की सवारी और स्तंभन दोष के बीच कोई संबंध नहीं था, लेकिन इस अध्ययन में लंबे समय तक साइकिल चलाने और प्रोस्टेट कैंसर के खतरे के बीच संबंध जरूर मिला।

प्रोस्टेट रोग और स्तंभन दोष

प्रोस्टेट कैंसर स्तंभन दोष का कारण नहीं होता।

हालांकि, कैंसर को हटाने के लिए प्रोस्टेट सर्जरी और प्रोस्टेट कैंसर के इलाज के लिए रेडिएशन थेरेपी (विकिरण चिकित्सा) स्तंभन दोष का कारण बन सकती है

गैर-कैंसरकारी, सौम्य प्रोस्टेट रोग का उपचार भी इस स्थिति का कारण बन सकता है।

इलाज

अच्छी खबर यह है कि स्तंभन दोष के कई उपचार हैं, और अधिकांश पुरुषों को एक ऐसा समाधान मिल जाता है जो उनके लिए काम करता है। उपचार में शामिल हैं:

दवा उपचार

पुरुष पीडीई -5 (फॉस्फोडाइस्टरेज -5) अवरोधक नामक दवाओं को ले सकते हैं।

इनमें से अधिकतर गोलियां सेक्स से 30 से 60 मिनट पहले ली जाती हैं – सबसे अच्छी तरह से नीले रंग की गोली सिल्डेनाफिल (वियाग्रा) ज्ञात है। अन्य विकल्प हैं:

  • वरदेनाफिल (लेवित्रा)
  • तडालाफिल (एक गोली एक दिन में एक बार के रूप लिया जाता है जिसे सियालिस कहा जाता है)
  • अवानाफिल (स्टेन्द्रा)

पीडीई -5 अवरोधक केवल डॉक्टरों के पर्चे से उपलब्ध होती हैं। एक डॉक्टर हृदय की स्थिति की जांच करेगा और नुस्खा लिखने से पहले अन्य दवाओं के बारे में पूछेगा।

पीडीई -5 अवरोधकों से जुड़े दुष्प्रभावों में शामिल हैं:

  • फ्लशिंग
  • दृश्य विषमता
  • बहरापन
  • अपचन
  • सरदर्द

कम इस्तेमाल किए जाने वाले दवा विकल्पों में प्रोस्टाग्लैंडिन ई1 शामिल है, जिसे लिंग में सुई लगा कर या मूत्रमार्ग के छिद्र से अंदर घुसा कर स्थानीय रूप से लगाया जाता है। ज्यादातर पुरुष गोली पसंद करते हैं, हालांकि, ये स्थानीय रूप से काम करने वाली दवाएँ उन पुरुषों के लिए ही होती हैं जो मौखिक उपचार नहीं ले सकते हैं।

दवा की ऑनलाइन दुकानें

स्तंभन दोष के लिए इंटरनेट पर दवाएँ खरीदना संभव है हालांकि इसमें सावधानी बरतनी चाहिए।

संयुक्त राज्य अमेरिका (यू.एस.) खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) की एक उपभोक्ता सुरक्षा गाइड है, जिसमें ऑनलाइन फ़ार्मेसी के बारे में निम्नलिखित जानकारी दी गई हैं:

  • क्या यह अमेरिका में स्थित है और लाइसेंस प्राप्त है
  • क्या सवालों के जवाब देने के लिए एक लाइसेंस प्राप्त फार्मासिस्ट है।
  • क्या पर्चे की आवश्यकता है।
  • क्या यह किसी ऐसे व्यक्ति के साथ सीधे संपर्क प्रदान करती है जो किसी भी समस्या पर सलाह-मशविरा कर सकता है।

आप सत्यापित इंटरनेट फार्मेसी प्रैक्टिस साइट्स (वीआईपीपीएस) की इस सूची का उपयोग करके यह जांच सकते हैं कि फार्मेसी को लाइसेंस प्राप्त है या नहीं।

एफडीए किसी असुरक्षित वेबसाइट के खतरों को पहचानने की युक्तियां भी बताता है, जिसमें निम्नलिखित संकेतों को देखना शामिल है:

  • फोन से वेबसाइट से संपर्क करने का कोई तरीका नहीं है।
  • कानूनी ऑनलाइन फ़ार्मेसियों द्वारा पेश की गई कीमतों की तुलना में कीमतें बेहद कम हैं।
  • नुस्खे की दवाओं बिना पर्ची के दी जा रही है – जो अवैध है।
  • व्यक्तिगत जानकारी सुरक्षित नहीं है।

एफडीए यह भी कहता है कि ये अवैध साइटें न सिर्फ अनजान गुणवत्ता और मूल की दवाएँ, ये गलत दवा या खतरनाक उत्पाद भी भेज सकती हैं।

वैक्यूम डिवाइस

वैक्यूम कठोरता उपकरण ऐसे पुरुषों के लिए कठोरता हासिल का एक यांत्रिक तरीका है जो दवाओं के उपचार का उपयोग नहीं करना चाहते हैं या नहीं कर सकते हैं, या उन्हें इससे फायदा न हो रहा हो।

लिंग को खींचने वाले चारों ओर से सील किए गए वैक्यूम पंप के उपयोग से कठोर बना दिया जाता है। इसके बाद एक साथ बैंड से लिंग से खिसकने से रोका जाता है।

वैक्यूम उपकरणों के उपयोग के साथ सहजता की कमी का मतलब है कि कई पुरुषों को स्तंभन दोष के लिए बेहतर उपचार मिले हैं।

सर्जिकल उपचार

शल्य चिकित्सा उपचार के कई विकल्प हैं:

  • पीनाइल इम्प्लांट्स: ये उन अंतिम लोगों के लिए आरक्षित अंतिम विकल्प हैं जिन्हें दवा उपचार और अन्य गैर-आक्रामक विकल्पों से कोई सफलता नहीं मिली है।
  • संवहनी सर्जरी: कुछ पुरुषों के लिए एक और शल्य चिकित्सा है विकल्प संवहनी सर्जरी, जो स्तंभन दोष का कारण बन रही कुछ रक्त वाहिकाओं को ठीक करने का प्रयास करता है।

सर्जरी एक अंतिम उपाय है और इसे केवल सबसे चरम मामलों में उपयोग किया जाता है। बहाली का समय अलग-अलग होता है, लेकिन सफलता दर अधिक होती है।

क्या आहार और वैकल्पिक उपचार काम करते हैं?

इसका संक्षिप्त जवाब है “नहीं।”

न डॉक्टरों द्वारा दिए गए कोई भी दिशानिर्देश और न ही साक्ष्य के कोई प्रमाणित स्त्रोत हर्बल गोलियों के सप्लिमेंट्स की खुराक के उपयोग का समर्थन करते हैं।

स्तंभन दोष के लिए गैर-पर्चे विकल्पों के पक्ष में कोई सबूत नहीं होने के साथ ही एफडीए ने ऑनलाइन बेचे गए “उपचार” के छिपे जोखिमों की चेतावनी दी है।

लक्षण

पुरुष हर बार सफलतापूर्वक स्तंभन प्राप्त नहीं कर सकते हैं, और यदि यह कभी-कभी हो तो इसे चिकित्सा समस्या नहीं माना जाता है।

ऐसा नहीं है कि स्तंभन दोष केवल खड़ा लिंग प्राप्त करने में पूर्ण अक्षमता के संदर्भ में ही माना जाता है। इसके लक्षणों में संभोग पूरा करने के लिए आवश्यक समय तक खड़ा बनाए रखने या पतन में अक्षमता में समस्याएँ भी शामिल होती हैं।

कई बार इसके भावनात्मक लक्षण भी होते हैं, जैसे घबराहट, शर्म, चिंता, और यौन संभोग में कम रूचि।

जब ये लक्षण नियमित रूप से परिलक्षित होते हैं तो यह माना जाता है कि पुरुष को स्तंभन दोष है।

अभ्यास/एक्सरसाइजेज

स्तंभन दोष के प्रभाव को कम करने के लिए आदमी खास व्यायाम कर सकता है।

दवा के बिना स्तंभन दोष के इलाज का सबसे अच्छा तरीका है केगेल अभ्यास के साथ श्रोणि (pelvic) तल की मांसपेशियों को मजबूत करना। ये अक्सर गर्भावस्था के दौरान अपने श्रोणि (pelvic) क्षेत्र को मजबूत करने के लिए महिलाओं से जुड़ी होती हैं, लेकिन ये लिंग के पूर्ण कार्य को वापस पाने के लिए पुरुषों के लिए भी प्रभावी हो सकती हैं।

सबसे पहले, श्रोणि (पेल्विक) तल की मांसपेशियों को खोजें। अगली बार जब आप पेशाब करें तो धार के बीच दो या तीन बार रोक कर इसे ढूँढ सकते हैं। इस प्रक्रिया के दौरान आप जिन मांसपेशियों को महसूस करते हैं वही श्रोणि (पेल्विक) तल की मांसपेशियां हैं, और यह केगेल अभ्यास का केंद्र होंगी।

एक केगेल व्यायाम इन मांसपेशियों को 5 सेकंड तक कसने, कसाव बनाए रखने और फिर मुक्त कर देना माना जाता है। ऐसा रोज 10 से 20 बार करने की कोशिश करें। जब आप पहली बार अभ्यास करेंगे तो हो सकता है ये संभव न हो पाए। हालांकि, यह समय के साथ आसान हो जाता है।

आप 6 सप्ताह के बाद सुधार देख सकेंगे।

यह सुनिश्चित करें कि आप इस प्रक्रिया में स्वाभाविक रूप से श्वास ले रहे हैं और नीचे धक्का मारने से बचें जैसे कि आप जबरदस्ती पेशाब कर रहे हैं। इसकी जगह एक गति में मांसपेशियों को एक साथ भींच कर लाएँ।

जाँचे

स्तंभन दोष के कई संभावित कारण होने के कारण डॉक्टर बहुत से प्रश्न पूछते हैं और खून की जाँचें करने के लिए कहते हैं। इन जाँचों में अन्य चीजों के साथ दिल की समस्याओं, मधुमेह, और कम टेस्टोस्टेरोन की जांच भी हो सकती हैं। डॉक्टर गुप्तांग सहित शारीरिक जाँच भी कर सकते हैं।

जिस कारण के लिए इलाज की आवश्यकता है उस पर विचार करने से पहले, डॉक्टर उन लक्षणों की तलाश करेगा जो कम से कम 3 महीने से बने हुए हैं ।

एक बार एक मेडिकल हिस्ट्री (चिकित्सा इतिहास) स्थापित हो जाने के बाद, डॉक्टर आगे की जांच करेंगे। ‘पोस्टेज स्टाम्प टेस्ट’ नामक एक सरल परीक्षण यह निर्धारित करने में सहायक हो सकता है कि कारण मनोवैज्ञानिक हैं या शारीरिक।

पुरुषों में आमतौर पर एक रात में 3 से 5 बार कठोरता आती है। यह टेस्ट रात में कठोरता की जांच करता है कि सोने से पहले लिंग के चारों ओर लगाए गए टिकट के सुबह वापस लगे मिले या नहीं, यह जाँच करता है। रात के कठोरता के अन्य परीक्षणों में पोटेन टेस्ट और स्नैप-गेज परीक्षण शामिल है।

ये विधियां सीमित जानकारी प्रदान करती हैं लेकिन आगे की जाँचों में डॉक्टर का मार्गदर्शन करने में सहायता करती हैं।

स्तंभन दोष के बारे में क्या-क्या जानना चाहिए है?
Rate this post

संबंधित पोस्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *