क्या लिंग बड़ा करने के उपाय असर करते हैं?

By | October 15, 2018

लिंग बड़ा करने का केवल एक उपाय ही वाकई में असर करता है

चूंकि कई पुरुषों के लिए बड़े लिंग की चाहत न सिर्फ एक सपना है बल्कि चिंता का विषय भी होता है, लिंग वृद्धि “मार्केट” बहुत तेजी से बढ़ रहा है। तो सभी विकल्प क्या हैं? क्या काम करता है, और क्या नहीं?

क्या लिंग बड़ा करने के उपाय असर करते हैं?

आपको लिंग बड़ा करने के लिए मार्केट में सैंकड़ों विज्ञापन और लेख मिल जाएंगे और आपके ईमेल का इनबॉक्स इस तरह की ईमेल से पूरा भर जाएगा। ये अद्भुत, “अविश्वश्नीय” नतीजों की बातें करते हैं जिन्हें पाना असंभव होता है। लेकिन इन पर भरोसा करना बुद्धिमानी नहीं होती इसलिए अपना पैसा जाया न करें। मार्केट में मौजूद किसी भी प्रोडक्ट ने यह नहीं दर्शाया है कि उससे लिंग स्थायी रूप से बड़ा हो जाता है।

लिंग बड़ा करने के लिए वैक्यूम उपकरण

नामर्दी के इलाज के लिए कई बार वैक्यूम उपकरणों की सलाह दी जाती है और लिंग वृद्धि के लिए भी इन्हें विज्ञापित किया जाता है क्योंकि इनसे कुछ समय के लिए लिंग जरूर बढ़ जाता है।

enlarger

वैक्यूम पंप लिंग के ऊपर रख दिए जाते हैं और ट्यूब से हवा बाहर निकाल दी जाती है जिससे दबाब उत्पन्न होता है। इससे रक्त तेजी से लिंग की ओर बहने लगता है, ठीक उसी तरह, जैसा खड़े होने पर होता है। लिंग के आधार पर कुछ समय के लिए एक रिंग लगा दिया जाता है जिससे खून जल्दी से वापस बाहर न जाए। लिंग वृद्धि केवल 24 घंटे के लिए रहती है।

लिंग के व्यायाम

चूंकि लिंग में कोई मसल नहीं होते, ऐसे कोई व्यायाम या मसाज तकनीकें नहीं हैं जो इसे बड़ा कर सकें (कुछ समय के लिए छोड़कर)। लिंग स्ट्रेचिंग करने या अपने जननांगों में वजन लटकाने से समय बर्बाद ही होता है (और इसमें दर्द भी हो सकता है)।

लिंग बड़ा करने के लिए ऑपरेशन

लिंग बड़ा करने का एकमात्र स्थायी हल है ऑपरेशन। ऑपरेशन से लिंग बड़ा दिखने लगता है, आमतौर पर एक इंच से। इसमें सर्जन लिंग के उन उत्तकों को काट देते हैं जो उसे अपनी सामान्य अवस्था में रखते हैं जिससे लिंग नीचे लटक जाता है।

इसके बाद कुछ महीनों तक वजन, या स्ट्रेचिंग उपकरणों से लिंग में स्थायी बढ़त लाई जाती है। इस प्रक्रिया में त्वचा पर कटने के दाग बन सकते हैं, लिंग खड़ी अवस्था में नीचे की ओर होता है और लिंग का आधार बालों से भरा होगा। डर्मल इंप्लांट नाम की एक और तकनीक से मोटाई और लंबाई बढ़ सकती है।

इस प्रक्रिया में शरीर के दूसरे हिस्सों से वसा कोशिकाओं को लिंग में प्रत्यारोपित किया जाता है। चूंकि लिंग के मुंड का आकार बढ़ाया नहीं जा सकता, इससे लिंग का आकार असामान्य दिखने लगता है। और कई बार प्रत्यारोपित की कई कोशिकाएँ एक जगह इखट्ठी होकर नतीजे खराब कर सकती हैं। अधिकतर मूत्र विज्ञानी बहुत जरूरत न होने पर इस तरह के ऑपरेशन की सलाह नहीं देते।

ऑपरेशन के बाद की जटिलताएँ और लिंग वृद्धि

किसी भी प्रकार के ऑपरेशन की तरह लिंग के ऑपरेशन में भी जोखिम होते हैं – दोनों मनोवैज्ञानिक और शारीरिक। लिंग वृद्धि ऑपरेशन के नतीजों से हर कोई संतुष्ट नहीं होता। यह इसलिए भी है क्यों लोग इससे उम्मीद करते हैं कि इससे समस्या पूरी सुलझ जाएगी – लेकिन ऐसा होता नहीं है।

क्या लिंग बड़ा करने के उपाय असर करते हैं?

हालांकि ऐसा बिरले ही होता है, किसी भी दूसरी ऑपरेशन तकनीक की तरह इसमें भी गड़बड़ियाँ हो सकती हैं। इसमें ऑपरेशन के बाद होने वाले इन्फेक्शन, आस-पास के उत्तकों और नर्व्स में नुक्सान, और एनेस्थीसिया के संभावित साइड-इफेक्ट हो सकते हैं।

बड़े लिंग की चिंता के कारण भी लोग आनंद लेने से वंचित रह सकते हैं। अधिकतर लोग यह जानकर आश्चर्यचकित रह जाते हैं कि सामान्य खड़े लिंग का साइज़ 5.6 इंच होता है, और अधिकतर लोग “सामान्य” सीमा में आते हैं। लिंग वृद्धि का ऑपरेशन की सलाह ऐसे लोगों को ही दी जाती है जिनके लिंग में विकृतियाँ हों या वह ठीक से काम नहीं कर पाता हो।

इससे पहले हमने सबसे प्रभावी तरीकों में से एक के बारे में लिखा था: Xtra-man – सच या धोखा? 

क्या लिंग बड़ा करने के उपाय असर करते हैं?
4 (80%) 1 vote

संबंधित पोस्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *