क्या आप एक बड़ा लिंग चाहते हैं?

By | March 21, 2018
क्या आप एक बड़ा लिंग चाहते हैं?

About DR. RICHA AHUJA

Physical Health And Behavioural Sciences

आपके लिंग में तीन हिस्से (चेम्बर) होते हैं जो स्पंज जैसे नर्म ऊतकों से बने होते हैं। लिंग की ओर तेजी से बहने वाला रक्त इन ऊतकों में भर जाता है और इसी से हमारा लिंग खड़ा होता है। यदि आप उचित व्यायाम कर सकते हैं तो ये तीन चेम्बर धीरे-धीरे बड़े हो जाते हैं और इनमें ज़्यादा खून भर सकता है। ऐसा होने से आपका लिंग बड़ा हो जाएगा! लिंग को बड़ा करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज होती है खड़े होने के लिए उत्तरदायी इरेक्टाइल ऊतकों को खींच कर (स्ट्रेचिंग) उसमें तनाव उत्पन्न करना। लिंग मुख्यतः इन्हीं ऊतकों से बना होता है जिन्हें कॉर्पस-कैवर्नस कहते हैं। इस खिंचाव या फैलाव के लिए खास उपकरणों का उपयोग किया जा सकता है जो शिथिल, आधे-शिथिल या खड़ी अवस्था में उपयोग किए जा सकते हैं। आप जो भी हों, इससे आपको फायदा जरूर होगा। तनाव और बल से आपके इरेक्टाइल ऊतक बड़े हो जाएंगे क्योंकि जब उन्हें खींचा जाएगा तो उन्हें बड़ा होना ही पड़ता है। बढ़त की गति धीमी हो सकती है लेकिन आपको बढ़त मिलेगी जरूर। नई कोशिका के स्थायी रूप से बनने और आपके लिंग के अंदर जमने में लगभग एक दिन का समय लगता है। हाँ, लेकिन स्थायी रूप से साइज़ बढ़ जाने का अर्थ यह नहीं होता कि बढ़त तुरंत नज़र भी आने लगेगी। आपको धीरज रखना होगा। इकट्ठे होते जा रहे फ़ायदों के परिणामों को देखने के लिए आपको कुछ हफ्तों का इंतज़ार भी करना पड़ सकता है। जब आप लिंग बढ़ाने के लिए लिए पहली बार प्रयत्न शुरू करते हैं तो आपके लिंग का शिथिल अवस्था में साइज़ करीब 2 इंच और खड़ी अवस्था में करीब 1 इंच बढ़ जाता है। इसलिए शुरुआत में आपका लिंग बैठी अवस्था में 2 इंच और खड़े में 1 इंच बड़ा होगा। औसतन देखा जाए तो ऐसा ही होता है। पहले निर्देशों को ध्यान से पढ़ लें और सुनिश्चित कर लें कि आप हर व्यायाम को अच्छे से समझ गए हैं। एक बार आप अपनी सुविधा अनुसार तकनीक चुन लें तो इन्हें न छोड़ें। शुरू करने से पहले ये रहीं कुछ टिप्स।

सबसे पहले अपने लिंग का माप लें…

शिथिल: एक स्केल लें और उसे अपने लिंग पर रखें। इसके बाद स्केल को खिसकाकर उसके किनारे को अपने पेट की ओर जितना हो सके ले जाएँ और पेट से छुलाएँ। अब अपने बैठे हुए लिंग को स्केल से लगाकर उसके सुपाड़े की छोर तक माप लें लें।

खड़ा: सीधे खड़े हो जाएँ और अपने तने लिंग को जमीन के समानान्तर कर लें। स्केल को प्यूबिक बोन (लिंग के आधार के ठीक ऊपर की हड्डी) पर दबा कर छुलाएँ और स्केल के इस किनारे से लिंग के सिर के सुपाड़े की छोर तक मापें। अपने घुटनों को जोड़कर खड़े होकर लिंग को उसके सिर के पीछे नीचे से पकड़कर माप लेने में आसानी होती है। स्केल को अपनी प्यूबिक बोन पर दबाएँ और लिंग के सुपाड़े के छोर तक जितना लंबा हो सके मापें। अपनी कमर को हिलाकर या कोण बदलकर देखें कि ऐसे करने से माप में क्या बदलाव आता है। एक बार आप इस तरह माप लेना सीख लेंगे कि हर बार खड़ी लंबाई जैसा ही नतीजा आए तो आप पाएँगे कि इस तरह माप लेना खड़े लिंग का माप लेने से ज़्यादा आसान और सुविधाजनक होता है।

penis measurement

मोटाई: एक धागे या इंची टेप से अपने खड़े लिंग के बीच में मोटाई मापें।

अपनी झाँटों को काट लें: इससे न सिर्फ आपका लिंग बड़ा दिखेगा, आपको यहाँ बताए व्यायाम करने में भी आसानी होगी। जब आप अपने लिंग की स्ट्रेचिंग, पुलिंग या “मिल्किंग” कर रहे हों तो ये कतई नहीं चाहेंगे कि आपके बाल उखड़ने लगें।

पौष्टिक खाना खाएँ और विटामिन लें: बढ़त की गति धीमी होने की किसी भी संभावना को दूर करने के लिए सुनिश्चित कर लें कि आपको पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व प्राप्त हो रहे हैं। खनिज, अमीनो एसिड और विटामिनों के उचित स्तर से व्यायाम की गुणवत्ता पर असर होता है। और हाँ, अच्छी मात्रा में पानी पीना न भूलें! हमारे सुझाए हुए विटामिनों और औषधियों की सूची देखें।

सबसे महत्वपूर्ण है, अपना मानसिक दृष्टिकोण सकारात्मक बनाए रखें: आपके लिंग की बढ़त के पीछे आपकी मानसिकता का भी बहुत बड़ा हाथ होता है। यदि आप अपने मन में विश्वास नहीं रखेंगे तो आपका लिंग बड़ा नहीं होगा क्योंकि आपका अचेतन मन आपके लिंग की शारीरिक बढ़त को बहुत मुश्किल बना देगा। इसलिए एक सकारात्मक दृष्टिकोण होना बहुत आवश्यक है। जैसा हमने बताया था, इन व्यायामों में पूरी 100% लगन की जरूरत होती है। आपको इन्हें हफ्ते में 5 बार करना ही होगा। यदि आपको कभी भी असुविधा हो या दर्द होने लगे तो थोड़े दिन रुक जाएँ। आपको अपना लिंग सिर्फ बड़ा करना है, उसे खींच कर उखाड़ना नहीं है। याद रखें, तनाव देकर, खींचकर, दबाव देकर, स्ट्रेचिंग करके या लिंग को फुलाकर आप इतना बल बनाते हैं जिससे कोशिका बस इतनी टूटती है कि उसका संरचनात्मक संतुलन एक सुरक्षित स्तर पर बना रहता है और उसकी सामान्य रिकवरी हो जाती है। जरूरत से ज़्यादा कोशिकाओं के बलपूर्वक विभाजन से आपका लिंग ठीक से रिकवर नहीं कर पाएगा और वह टेढ़ा हो सकता है। यह भी हो सकता है कि आपके लिंग में कोई भी बढ़त न हो। इसलिए हम दोबारा कहेंगे कि,

penis measurement

इसमें अति न करें!

ठीक तरह से और नियमित रूप से प्रयत्न करने पर आपको जल्दी ही ठोस नतीजे मिलने लगेंगे। पहले कुछ हफ्तों के अंदर ही आपका लिंग वाकई में बड़ा और मोटा दिखने लगेगा। आपको इसी को देखकर इतनी प्रेरणा आ जाएगी कि आप अपने दैनिक व्यायाम को और जोश से कर सकेंगे।

चिकनाई

जेल्क़िंग एक्सर्साइज़ करते समय आपको अपने लिंग पर कोई लुब्रिकेंट लगाना होगा। साबुन या शैम्पू का इस्तेमाल न करें! इन्हें ज़्यादा और लंबे समय तक लगाने से लिंग की त्वचा में जलन हो सकती है और ये त्वचा को बहुत सूखा कर देते हैं। इससे त्वचा फटने लगती है और उसकी पपड़ी निकलने लगेगी। यही नहीं, यदि ये आपके लिंग के सुपड़े के छेद में (जहाँ से पेशाब करते हैं) चले जाएँ तो बहुत तकलीफ हो सकती है। वैसलीन (पैट्रोलियम जेली) भी अच्छी होती है लेकिन…यह बहुत चिपचिपी और असुविधाजनक हो सकती है। वैसलिन का एक और नुकसान यह है कि ये इतनी गाढ़ी होती है कि आप अपने हाथ को आवश्यक गति से नहीं चला पाएँगे। बेबी ऑइल भी अच्छा काम करता है लेकिन यह भी बहुत असुविधाजनक होता है और इससे दाग पड़ जाते हैं। इसके लिए सबसे बढ़िया होती है वैसलीन ईंटेंसिव केयर। यह बहुत आसानी से साफ हो जाती है, चिकनी होती है, ज़्यादा देर तक चलती है और इससे आप एक्सर्साइज़ के समय जितनी तेज हो सके हाथ चला सकते हैं।

हमेशा जानकारी रखें कि किन परिस्थितियों में लिंग को बढ़ाने की मनाही होती है। यदि आपको गंभीर मधुमेह, श्वास-तंत्र की अस्थिरता, और सिरोसिस जैसी कोई बीमारी हो जिसमें रक्त-प्रवाह, ऑक्सिजेनेशन, या ऊतकों के पुनर्निर्माण में बदलाव आ सकता है तो पहले किसी मूत्र विशेषज्ञ डॉक्टर से सलाह ले लें। एक्सर्साइज़ करते समय अन्य लक्षणों पर भी ध्यान दें: यदि लिंग पर छाले पड़ जाएँ तो यह इस बात की निशानी है कि आपने लिंग पर अधिक समय के लिए जरूरत से ज़्यादा दबाब बना दिया है। थोड़ा दबाव तो जरूरी होता है लेकिन इसकी अति न करें! लिंग को ज़्यादा स्ट्रेच करने से लाल दाग पड़ जाते हैं। इनसे बचने के लिए अपनी एक्सर्साइज़ को तब तक के लिए रोक दें जब तक छाले ठीक न हो जाएँ। नर्व में सूजन तब आती है जब आप ज्यादा समय के लिए ज़्यादा वजन उठा लेते हैं। इससे लिंग के अंदर की नर्व्स विकृत होकर सूज जाएँगी। यदि सूजन कम नहीं होती है तो अपक्षय (एट्रोफी) भी हो सकती है। ऐसे में आप अपना खड़ापन मेनटेन नहीं कर पाएँगे। ऊतकों से जरूरत से ज़्यादा काम कराने पर “फ़ज़ी स्किन” या “धुंधली त्वचा” भी हो सकती है। जब आप इस जगह को छुएंगे तो आपको सफेदी और असपष्टता महसूस होगी क्योंकि ये त्वचा सीधे बाहर ही होती है। ये असल में आंशिक रूप से मृत कोशिकाएँ हैं जिन्होने आपके लिंग को ढका हुआ है। हमनें आपको यह सब सावधानियाँ चेतावनी के तौर पर बताईं जरूर हैं लेकिन जो एक्सर्साइज़ हम आपको यहाँ बताने जा रहे हैं वे सभी लिंग बड़ा करने के सुरक्षित प्राकृतिक उपाय हैं। इन्हें करते समय बस समझदारी से काम लेने की जरूरत होती है। हम एक डेली-वर्कआउट (दैनिक व्यायाम सत्र) की सलाह देते हैं जिसे हफ्ते में 5 बार करना होता है लेकिन यदि आपको ज़्यादा दर्द या असुविधा होने लगे तो आराम से करें! हॉट-टॉवल वार्म-अप। आपको अपनी दैनिक एक्सर्साइज़ इस प्रक्रिया से शुरू करनी चाहिए। यह असल में कोई एक्सर्साइज़ नहीं है लेकिन पहले इसे करना जरूरी होता है। “हॉट टॉवल वार्म-अप” लिंग के आसपास रक्त का प्रवाह बढ़ा देता है जिससे त्वचा थोड़ी लचीली हो जाती है। इससे एक्सर्साइज़ करते समय अच्छी ग्रिप भी मिलती है। एक तौलिए को गुनगुने पानी में डुबा कर निचोड़ लें। इसके बाद इसे अपने लिंग पर लपेट लें (शिथिल या खड़ा)। इसे एक मिनट तक लगाए रखें और एक-दो बार दोहराएँ। इसेक बाद लिंग को अच्छे से पोंछ लें।

स्ट्रेचिंग एक्सर्साइज़

हॉट-टॉवल वार्म-अप के बाद स्ट्रेचिंग एक्सर्साइज़ शुरू करें। अपने लिंग को नियमित रूप से दबाए हुए खींचने से साइज़ में बिल्कुल वैसी ही जबर्दस्त बढ़त मिल सकती है, जैसी व्यायाम करने से शरीर की दूसरी मसल्स को मिलती है। इन एक्सर्साइज़ से आपका लिंग खिंचता है और इरेक्टाइल ऊतकों पर भी खिंचाव आता है। इन व्यायामों से आप अपने लिंग को शिथिल और खड़ी, दोनों स्थितियों में लंबा कर सकते हैं। इनमें से कोई एक स्ट्रेचिंग तकनीक चुन लें और अपने वर्क-आउट में शामिल कर लें।

तकनीक एक

यदि आपको अपना लिंग बड़ा करना है तो इस तकनीक का इस्तेमाल करें जिसे सबसे असरदार माना जाता है। यह एक्सर्साइज़ खड़े होकर करना बेहतर होता है। इस एक्सर्साइज़ के लिए अपने लिंग को शिथिल अवस्था में रखें। इसमें आप खड़ा नहीं रख सकते। इस एक्सर्साइज़ में लिंग पर कोई लुब्रीकेंट भी न लगाएँ।

anatomia penis

1. बैठे हुए लिंग के सुपाड़े को अपने एक हाथ से सख्ती से पकड़ लें। इतनी ज़ोर से न पकड़ें कि रक्त का प्रवाह रुक जाए।

2. लिंग को अपने बिल्कुल सामने खींच लें। इसे जितना हो सके, और जितने में दर्द या असुविधा न हो, उतना खींचें। इसे 1 मिनट तक ऐसे ही पकड़े रहें।

3. 10 सेकंड के लिए रिलैक्स करें। अब लिंग को कुछ बार “घुमाएँ”। इससे रक्त का प्रवाह फिर से सामान्य हो जाता है।

4. स्टेप दो को 4 बार दोहराएँ और हर बार इसे किसी दूसरी दिशा में खींचें…ऊपर, नीचे, बाएँ और दाएँ।

5. सभी 5 दिशाओं में खींच लेने के बाद (हर दिशा में 1 मिनट) आप स्ट्रेच (स्टेप 1-4) को जितनी बार करना हो कर सकते हैं। हम यही सलाह देते हैं कि आप स्ट्रेच को 5-10 बार दोहराएँ। लिंग को हाथ से खींचने से वैसे ही ठोस नतीजे मिलते हैं जैसे परंपरागत लिंग बड़ा करने के वजन वाले सिस्टम से मिलते हैं। अपने हाथ का सबसे अच्छा उपयोग करने का तरीका यह है कि आप डोर्सल नर्व को छोड़कर कहीं भी दबाव डाल सकते हैं। डोर्सल नर्व एक पतली नर्व होती है जो लिंग के ऊपरी हिस्से से जाती है। अपने लिंग को आप अपने हिसाब से किसी भी तरीके से पकड़ सकते हैं, बस यह ध्यान रखें कि आपको कहाँ दबाव लगाना है और कहाँ नहीं। और एक बार फिर कहेंगे, ज़्यादा टाइट न पकड़ें, नहीं तो रक्त का प्रवाह रुक सकता है। इस एक्सर्साइज़ से आपको 2 हफ्तों से भी कम समय में एक लंबा लिंग मिल सकता है लेकिन नज़र आने लायक बड़ा होने में 3-4 महीने लगते हैं।

Video Penis Prothese:

तकनीक दो

यह तकनीक तकनीक नंबर एक जैसी ही है। इसे ऐसे कई लोगों ने वेब-फोरम्स पर कई बार शेयर किया है जिनके लिंग की लंबाई 2” तक बढ़ गई!

1. शिथिल (बैठे हुए) लिंग के सुपाड़े को अपने एक हाथ से सख्ती से पकड़ लें। इतनी ज़ोर से न पकड़ें कि रक्त का प्रवाह रुक जाए।

2. लिंग को अपने बिल्कुल सामने खींच लें। इसे इतना खींचें कि लिंग में एक बढ़िया दर्दरहित खिंचाव महसूस हो। इसे 30 सेकंड से 1 मिनट तक ऐसे ही पकड़े रहें और फिर छोड़ दें।

3. अभी करना जारी रखें और एक बार में 5-20 मिनट तक स्ट्रेचिंग करें। हर बार के बाद 10-20 मिनट रुकें। (संदर्भ के लिए इस जानकारी को प्रिंट कर लें!) डेली वर्कआउट प्रोग्राम हॉट टॉवल वार्म-अप (5 मिनट), स्ट्रेचिंग एक्सर्साइज़ (25 से 30 मिनट), बढ़ाने और रक्त-प्रवाह की एक्सर्साइज़ (1 मिनट), जेल्क़िंग एक्सर्साइज़ (10 से 20 मिनट), पीसी एक्सर्साइज़ (5 मिनट), मालिश और वार्म-डाउन (5 से 10 मिनट)। हॉट-टॉवल वार्म-अप (5 मिनट)। एक तौलिए को गुनगुने पानी में डुबा कर निचोड़ लें। इसके बाद इसे अपने लिंग पर लपेट लें (शिथिल या खड़ा)। इसे एक मिनट तक लगाए रखें और एक-दो बार दोहराएँ। इसेक बाद लिंग को अच्छे से पोंछ लें। इससे आप जो एक्सर्साइज़ करने जा रहे हैं, उनके लिए अच्छी ग्रिप बन जाएगी।

क्या आप एक बड़ा लिंग चाहते हैं?मेरे परिणाम XTRA MAN के साथ: १५ दिनों में ४.५ सेमी. वृद्धि!! मैंने अपनी चौड़ाई नहीं नापी है क्योंकि मुझे इसे नापना नहीं आता है. परन्तु देखने में मुझे ऐसा लग रहा है कि यह बहुत बढ़ गया है.

समीक्षा करें xtra man

स्ट्रेचिंग एक्सर्साइज़ (25 से 30 मिनट)

1.  शिथिल लिंग के सुपाड़े को अपने एक हाथ से सख्ती से पकड़ लें। सावधान रहें कि इतनी ज़ोर से न पकड़ें कि रक्त का प्रवाह रुक जाए।

2. लिंग को अपने बिल्कुल सामने ले आएँ। इसे जितना हो सके, और जितने में दर्द या असुविधा न हो, उतना खींचें। इसे 1 मिनट तक ऐसे ही पकड़े रहें।

3. 10 सेकंड के लिए रिलैक्स करें। अब लिंग को कुछ बार “घुमाएँ”। इससे रक्त का प्रवाह फिर से सामान्य हो जाता है।

4. स्टेप दो को 4 बार दोहराएँ और हर बार इसे किसी दूसरी दिशा में खींचें…ऊपर, नीचे, बाएँ और दाएँ।

5. सभी 5 दिशाओं में खींच लेने के बाद (हर दिशा में 1 मिनट) आप स्ट्रेच (स्टेप 1-4) को जितनी बार करना हो कर सकते हैं। हम यही सलाह देते हैं कि आप स्ट्रेच को 5-10 बार दोहराएँ।स्ट्रेचिंग एक्सर्साइज़

 

बढ़त और रक्त-प्रवाह की एक्सर्साइज़ (1 मिनट)

लिंग को पकड़ कर इसे बैडमिंटन के रैकेट की तरह घुमाएँ। 30 बार से ज़्यादा न करें और दूसरे हाथ से अंडों को पकड़े रहें नहीं तो लिंग उचक-उचक कर उसमें लगेगा।

जेल्क़िंग (मिल्किंग) एक्सर्साइज़ (10 से 20 मिनट)

1. लुब्रिकेशन के लिए मसाज ऑइल, हेम्प ऑइल, वैसलिन आदि का उपयोग करके अपने लिंग की त्वचा पर अपनी उँगलियों को खिसकाएँ और पूरे लिंग पर लुब्रिकेंट लगा लें। तेल की कुछ बूंदें सैंकड़ों बार के लिए पर्याप्त होती हैं। साबुन का उपयोग नहीं करें नहीं तो कई दिनों तक जलन होती रहेगी!

जेल्क़िंग

2. अपने अंगूठे और तर्जनी से लिंग को नीचे से (पेट के पास) से पकड़ लें। अब हाथ को खिसका कर नीचे की ओर ले जाएँ और सुपाड़े पर जाकर रुक जाएँ। इसके बार हाथ बदल कर दोहराएँ। हर स्ट्रोक को तीन सेकंड तक करें। इस संवेदना से आपका खड़ा होने में मदद मिलेगी।

जेल्क़िंग

3. जब आपका लिंग आधा-खड़ा हो जाए तो, अंगूठे और अपने उल्टे हाथ की तर्जनी से “बहुत बढ़िया, अंगूठे और तर्जनी को जोड़कर गोल छेद वाली” या “अमेरिकन ए-ओके” की मुद्रा बनाएँ। इस हाथ से अपने लिंग के आधार को मजबूती से पकड़ लें।

4. अब पेट के पास से शुरू करते हुए लिंग पर धीरे-धीरे, लेकिन मजबूती से हाथ खिसकाएँ। नीचे और बाहर की ओर खींचें। अब आपका थोड़ा सा खड़ा होने लगेगा। लिंग को उसके आधार से सुपाड़े तक पूरा छूएँ। ध्यान रखें कि आपके लिंग का सुपाड़ा खून भरने के कारण बड़ा हो जाता है।

5. अब सीधे हाथ से भी ऐसा ही करें, पेट के पास से शुरू करते हुए नीचे सुपाड़े तक हाथ खिसकाते हुए ले जाएँ। दोनों हाथों से एक के बाद एक आराम से तालबद्ध तरीके से मिल्किंग (दूध निकालने जैसा) करें। सुपाड़े के सबसे ऊपरी हिस्से को छोड़कर लिंग के हर हिस्से को छुएँ। पहले हफ्ते  मध्यम शक्ति से 200-300 स्ट्रोक/प्रतिदिन करें। (10 मिनट)। अगले हफ्ते मध्यम से लेकर पूरी शक्ति से 300-500 स्ट्रोक/प्रतिदिन करें (15 मिनट)। इसके बाद से रोज पूरी शक्ति से 500 स्ट्रोक/प्रतिदिन या ज़्यादा करें। (20 मिनट) (यदि इस एक्सर्साइज़ के दौरान आपका खड़ा होने लगे तो थोड़ा दबाकर इसे रोकें या इसके शांत होने तक रुकें। आप बाद में अपने लिंग को 25-30 बार हंटर जैसे छपछपा कर रक्त-प्रवाह बढ़ा सकते हैं। इस एक्सर्साइज़ को हफ्ते में 5 दिन करें। अपने लिंग को बाद में थोड़ा सा ही खड़ा रखें। यदि आपका झड़ने लगे तो मिल्किंग रोक दें और थोड़ी देर रुक कर शांत होने दें। झड़ने से रोकना भी एक संयम की परीक्षा है जिससे आप स्व-नियंत्रण करना सीख लेंगे।)

exercises to increase

पीसी एक्सर्साइज़ (5 मिनट)

अपनी प्यूबोकोसीजेअल (पीसी) माँसपेशियों को ढूँढने के लिए निर्देश पढ़ें। हर बार वर्कआउट के समय इन एक्सर्साइज़ के अलग-अलग प्रकार करें। आप पीसी एक्सर्साइज़ दिन में कभी भी ड्राइविंग करते हुए, टीवी देखते समय वगैरह भी कर सकते हैं।

पीसी एक्सर्साइज़

1. तेज पीसी क्लैंप्स करें।

दबाएँ और छोड़ें, बार-बार करें। बीस के सेट से शुरू करें और फिर सौ से ऊपर तक ले जाएँ। जीवन भर दिन में कम से कम 250 पीसी क्लैंप करें। आपका लक्ष्य यह होना चाहिए कि आप 1,000 क्लैंप प्रतिदिन तक कर पाएँ।

2. लंबे समय तक दबाने का अभ्यास करें

इसके लिए पीसी मसल को तीस सेकंड, या जितनी देर तक हो सके, तक क्लैंप कर के रखें।

3. ये सीढ़ियों के स्टेप्स आज़माएँ:

धीरे-धीरे समय बढ़ाते हुए टाइट करें, फिर ढीला करें। एक-दो सेकंड के लिए टाइट करें, फिर एक-दो सेकंड के लिए ढीला करें। ऐसा बार-बार करें।

4. पीसी फ्लटर (फड़फड़ाहट):

पीसी मसल को जितना धीरे-धीरे हो सकें टाइट कर लें। धीरे-धीरे पूरा दबा लेने के बाद (जब आप और ज़्यादा न दबा सकें), छोड़ दें। कुछ देर बाद लिंग “फड़फड़ाएगा” और आपको अपनी रीढ़ में ऊर्जा का एक संचार महसूस होगा!

5. पेशाब करते समय आखिरी बूंदों को तेजी से बाहर निकालते समय पीसी मसल्स का दूसरी दिशा में उपयोग होता है। ऐसा करने पर आपको अपना गुदाद्वार खुलता हुआ महसूस होगा और दूसरे प्रकार का एहसास होगा। इसे पुश आउट पीसी कहते हैं।

मसाज और वार्म-डाउन (5 से 10 मिनट)मसाज और वार्म-डाउन

वर्क-आउट करने के बाद अपने लिंग में कई मिनटों तक धीमे-धीमे मसाज करें। यदि आप चाहें, तो इसके लिए किसी हर्बल इन्लार्ज क्रीम ले सकते हैं। मसाज करने के बाद या तो वर्क-आउट के शुरुआत की तरह हॉट-कंप्रेस लगाएँ या आप अपने लिंग को कुछ मिनटों तक गुनगुने पानी में रखें। एक टॉवल से पोंछ लें। बस यही ये वर्क-आउट है। यही वे एक्सर्साइज़, या “सीक्रेट” हैं जिनसे आपको एक लंबा, ज़्यादा मोटा, शक्तिशाली लिंग ….कठोर और चौड़ा स्तंभन…बेहतर चरम सुख…और ज़िंदगी भर चलने वाली सेक्स दम-खम पा सकेंगेन! इस वर्क-आउट प्रोग्राम को हफ्ते में 5 दिन करें और आपकी बढ़त स्थायी हो जाएगी!!! यह वाकई में काम करता है! हमें अपनी प्रगति के बारे में ई-मेल करें। हमें हर उस आदमी से सुनकर अच्छा लगता है जो अपने लिंग से खुश हैं!!

ज़्यादा कठोर स्तंभन

ज़्यादा कठोर स्तंभन

इन टिप्स से आप लंबे चलने वाले कठोर स्तंभन पा सकेंगे: कम वसा वाले, रेशेदार भोजन लें। कॉलेस्ट्रोल का स्तर ज़्यादा होने से आपके लिंग की रक्त धमनियों में रुकावट आ सकती है। इससे नामर्दी भी हो सकती है। आपको अपने भोजन में थोड़ा ज़िंक में शामिल करना चाहिए। पतले बीफ़, टर्की, सीरियल, मटन, केंकड़े के माँस और घोंघों में ज़िंक समृद्ध मात्रा में पाया जाता है। ज्यादा कठोर स्तंभन पाने के लिए हमारे सुझाए विटामिनों और सप्लिमेंट्स पर भी एक नज़र डालें। नियमित रूप से एक्सर्साइज़ जरूर करें। जब आप फिट नहीं होते तो आपकी सेक्स करने की क्षमता पर भी बुरा असर होता है जिससे स्तंभन की समस्याएँ सामने आ सकती हैं। सिग्रेट पीना छोड़ दें। धूम्रपान के जाहिर जोखिमों के ऊपर शोधों ने यह भी दर्शाया है कि यह स्तंभन और नामर्दी की समस्याएँ को जन्म देता है। अंततः, सबसे महत्वपूर्ण सलाह यही है (और जिससे आपको ज़्यादा असुविधा भी नहीं होती) कि – ज़्यादा से ज़्यादा बार खड़ा करें! आपके लिंग की माँसपेशियों के ऊतकों को जिंदा रहने के लिए ऑक्सिजन की जरूरत होती है। इन्हें ऑक्सिजन कहाँ से मिलेगी? रक्त में बह रही लाल रक्त कोशिकाओं से। रक्त जितना ज़्यादा प्रवाहित होगा, स्तंभन संबंधी विकार होने की संभावना उतनी ही कम होगी। चूंकि खड़े होने पर लिंग की ओर रक्त बहुत तेजी से बहता है इसलिए लिंग की माँसपेशियों के ऊतकों को ठीक से ऑक्सिजेनेटेड रखने के लिए ज़्यादा बार खड़ा होना बेहतर होता है। और यही तो हस्तमैथुन करने का एक वैध बहाना है।

प्राचीन रहस्य:

प्राचीन रहस्य

“अपने अँगूठे को लिंग के सुपाड़े पर और तर्जनी को लिंग के निचले हिस्से पर रखें। एक गहरी साँस लें और लिंग को पकड़े हुए ही लिंग के सिर की ओर घुमावदार तरीके से डंडे को दबाएँ। इसमें अँगूठा, तर्जनी और कनिष्ठिका मिलकर धकेलती हैं जिससे खून लिंग के सर की ओर जाने लगता है अब इस ग्रिप को उतनी देर तक पकड़े रहें जब तक आप साँस रोके रह सकते हैं। इस एक्सर्साइज़ को 9 बार दोहराएँ। हर बार साँस रोकने पर 9 तक गिनती गिनें और लिंग के सिर की ओर और दबाते हुए ले जाएँ।

शीघ्रपतन को नियंत्रित करें

शीघ्रपतन को नियंत्रित करें

शीघ्रपतन को नियंत्रित करें

सबसे पहले तो यह जान लें कि हर 3 में से एक आदमी का समय से पहले झड़ जाता है, और अधिकांश मर्दों का कभी न कभी जल्दी झड़ जाता है। इसलिए यदि यह आपके साथ भी होता है तो आप अकेले नहीं हैं। नीचे हम कुछ ऐसी टिप्स और एक्सर्साइज़ बता रहे हैं जिनसे आप इस समस्या को नियंत्रित करना सीख जाएंगे: शुरुआत कर रहे लोगों के लिए सेक्स के पहले एक ग्लास वाइन पीना ठीक रहता है। शराब से आप बस इतना रिलैक्स तो हो जाएँगे कि अपने झड़ने को थोड़ा रोक सकेंगे। सेक्स करने के कुछ घंटे पहले हस्तमैथुन करने का आजमाया हुआ तरीका तो फिर है ही। यदि आप “पहले से अपना काम कर लेंगे”, तो अपनी पार्टनर के साथ असली काम करते समय आपका इतनी जल्दी नहीं झड़ेगा। यदि आप चरम सुख की प्राप्ति के बिल्कुल पहले के क्षणों में होने वाले एहसासों को पहचानने लगेंगे तो झड़ने से पहले ज़्यादा देर तक सेक्स का आनंद ले सकेंगे। एक और एक्सर्साइज़ है जिसे “एक से दस तक” कहते हैं। कल्पना करें कि मजा नापने का पैमाना 1 से 10 तक है: 1 पर आपका खड़ा होना शुरू होता है; 10 पर आपको चरम सुख मिलता है और झड़ जाता है। इसलिए नंबर 9, चरम सुख के ठीक पहले का समय होगा और इसके बाद आप झड़ना रोक नहीं सकेंगे। हस्तमैथुन करें, रुकें, फिर हस्तमैथुन करें। आप 15 मिनट बाद झड़ा सकते हैं। (यदि झड़ाना हो तो)। इस तकनीक को तब तक दोहराएँ जब तक यह स्थिति न आ जाए कि आप खड़े होने के बाद बिना झड़े 15 मिनट तक रुक सकें। एक और तरीका जो शीघ्रपतन की संभावना कम कर देता है वह हमने आपके वर्क-आउट में बताया था। अपनी पीसी माँसपेशियों को दबाएँ। यदि आप भूल गए हैं कि केगेल (पीसी) माँसपेशियाँ कहाँ होती हैं तो इन पर हमारी चर्चा को दोबारा पढ़ें। मजबूत पीसी माँसपेशियाँ वैसे ही काम करती हैं जैसे आपकी कार में ब्रेक काम करते हैं – आप अपनी माँसपेशियों को भींच कर अपने खड़ेपन को वैसे ही नियंत्रित कर सकते हैं जैसे आप स्पीड कम करने के लिए ब्रेक लगाते हैं। एक तरह से यह भी कह सकते हैं कि सेक्स करते समय चरमसुख का समय बढ़ाने के लिए आप इन माँसपेशियों को वैसे ही उपयोग करेंगे मानो “पेशाब करते-करते बीच में रुक गए हों”। इन माँसपेशियों की शक्ति को पहचानें और समझें कि आप इन्हें कैसे उपयोग कर सकते हैं। इनकी मदद से आप बिस्तर में तहलका मचा देंगे! और अंत में, पतन नियंत्रित करने का सबसे पुराना और सरल और सबसे अच्छा तरीका है “लॉकिंग मेथड”। सेक्स करते समय जब आपको बहुत ज़्यादा उत्तेजना हो जाए तो … बस अपने लिंग को योनि से इतना बाहर खींच लें कि केवल सुपाड़ा ही योनि के अंदर रहे। इसके बाद 15-30 सेकंड के लिए कुछ न करें। झड़ने की इच्छा शांत हो जाने तक रुकें और फिर दोबारा जहाँ से रुके थे वहाँ से वापस शुरू करें।

क्या आप एक बड़ा लिंग चाहते हैं?मुझे इस बारे में ज़रा भी ज्ञान नहीं था कि XTRA MAN को काम करने में कितना समय लगेगा. इसलिए मैंने इसे हर दिन लगाने का निर्णय लिया और उसके बाद मैं परिणाम के अनुसार इसका प्रयोग करता. और परिणाम के लिए मुझे ज्यादा लम्बा इंतज़ार नहीं करना पड़ा. सातवें ही दिन, मेरा बॉक्सर शॉर्ट पैंट मेरे “औज़ार” के लिए छोटा महसूस होने लगा. उसी समय मैंने इसे नापने का सोचा. ध्यान दें!!! केवल १ सप्ताह में आकार में ३.५ सेमी. वृद्धि!!!!

समीक्षा करें xtra man

टेढ़ापन सीधा करना

खड़े लिंग में टेढ़ापन कोर्पोरा-कैवर्नोसा कमजोर होने के कारण आता है क्योंकि कमजोर कोशिकाओं के कारण लिंग एक दिशा में मुड़ जाता है। इस समस्या को जेल्क़िंग करके आसानी से ठीक किया जा सकता है। इस व्यायाम से आपके लिंग के दोनों ओर की कोर्पोरा-कैवर्नोसा मजबूत होती हैं और कुछ महीनों तक एक्सर्साइज़ करने के बाद आपका लिंग सीधा होने लगेगा।

लिंग सीधा करने के लिए जेल्क़िंग

लिंग सीधा करने के लिए जेल्क़िंग

हालाँकि यह एक्सर्साइज़ वैसी ही है जैसी आपने पहले पढ़ी है, इसमें एक हल्का सा बदलाव है जिससे आपको फायदा हो सकता है। जेल्क़िंग एक्सर्साइज़ वैसे ही शुरू करें जैसा पिछली तकनीक में बताया गया था, आधे खड़े लिंग को नीचे से पकड़ कर थोड़ा टाइट दबाएँ और खिसकाते हुए सुपाड़े तक ले जाएँ। हर 5 या 10 जेल्क़ के बाद अपने लिंग को उसके टेढ़ेपन की विपरीत दिशा में मिल्क करें और सुपाड़े तक खिसकाते हुए विपरीत दिशा में मोड़ें। इससे न सिर्फ आपके लिंग का डंडा मजबूत होगा, इससे टेढ़ी हो रही दीवार को भी मजबूती मिलेगी और वह धीरे-धीरे अपनी दिशा ठीक कर लेगी। नीचे खिसकाते समय हर स्ट्रोक से अपने लिंग को मजबूती देने पर ध्यान केन्द्रित करें, नाक से गहरी साँसें लें और मुँह से छोड़ें। हर बार साँस अंदर लेने के साथ कल्पना करें कि ऊर्जा का एक पिंड बढ़ता जा रहा है और आपके पेट और सीने में फूल रहा है। जब आप साँस और अंदर न ले पाएँ तो साँस छोड़ें और कल्पना करें कि वह ऊर्जा का पिंड नीचे आपके लिंग से होते हुए बाहर जा रहा है। आप पाएँगे कि ऐसा करने से आपको परिणाम जल्दी मिलेंगे। विटामिन और हर्ब्स कुछ खास विटामिनों, हर्ब्स और सप्लिमेंट्स से आपके नियमित बड़ा करने के वर्क-आउट प्रोग्राम में बहुत लाभ हो सकता है, इसलिए इन्हें अपने भोजन में शामिल करें। इससे न सिर्फ आपको काफी ऊर्जा मिलेगी, आपकी कामेच्छा भी कई गुना बढ़ जाएगी। “ए” ग्रेड सप्लिमेंट्स खरीदना बेहतर होता है। इनके लिए थोड़े पैसे ज़्यादा लगते हैं लेकिन परिणाम भी सस्ते “चालू” सप्लिमेंट्स की तुलना में बहुत अच्छे होते हैं (जो आपके लिए बेहतर होता है)। यदि आप चाहें तो हमारे सहयोगी विटामिन और हैल्थ स्टोर्स से ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते हैं। इन सभी स्टोर्स में अच्छे क्वालिटी के सप्लिमेंट्स उपलब्ध हैं जो सीधे आपके घर पर डेलीवर हो जाएँगे।

ऊर्जा के लिए दैनिक विटामिन:

– 2,000 मिग्रा विटामिन सी दिन में 2 या 3 बार

– 30 मिग्रा ज़िंक

– 10,000 यूनिट (आईयू) मिश्रित कैरोटेनोइड।

– 100 मिग्रा विटामिन ए

– 200 मिग्रा मैग्नीशियम

– 80 मिग्रा कोएंजाइम क़्यू

– 100 आई. यू. विटामिन डी

–  50 मिग्रा थियामीन

ये विटामिन हमारी शॉपिंग इंडेक्स के अधिकतर सहयोगी स्टोर्स में उप्लबद्ध हैं, जिसमें इंटरनेट का नं 1 विटामिन स्टोर भी शामिल है।

सेक्स जागरूकता कैसे बढ़ाएँ:

– दमानिया की जड़

– कद्दू के बीज

– कूटू

– क्रेनबेरी सत्त

सेक्स शक्ति बढ़ाने की ये तथा अन्य औषधियाँ Erotix Products Pharmacy और शॉपिंग मॉल में हमारे अन्य सहयोगियों के यहाँ ऑनलाइन उप्लबद्ध हैं।

एक और चीज…

अधिक से अधिक पानी पिएँ! प्रतिदिन 4-6 लीटर शुद्ध पानी बहुत फायदा करता है जिससे आपके बड़ा करने के वर्क-आउट में मदद मिलती है। इससे आपको अपने रोज़मर्रा के कामों को आराम से निपटाने के लिए ऊर्जा का थोड़ा डोज़ भी मिल जाता है। अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न नीचे हमारे निर्देश-पत्रक के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न बताए गए हैं: मुझे ये तकनीकें किस समय करनी चाहिए? जब आप चाहें। कई पुरुष सुबह उठने के बाद एक्सर्साइज़ करते हैं और कई लोग सोने जाने के पहले रात को। एक्सर्साइज़ के समय से कोई अंतर नहीं पड़ता।

क्या मैं एक्सर्साइज़ के ठीक पहले, उसके दौरान या बाद में झड़ा सकता हूँ?

जब आपका झड़ता है तो आपके शरीर में कई रासायनिक और शारीरिक बदलाव आते हैं, पहले तो आपके शरीर में टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होने लगता है, दूसरा, आपके जोड़ने वाले ऊतक भी टाइट होने लगते हैं। इसलिए बेहतर होगा कि एक्सर्साइज़ करने के कुछ घंटों तक न झड़ाएँ, इसी तरह एक्सर्साइज़ के कुछ घंटों पहले तक भी झड़ने नहीं देना चाहिए। जब मैं थोड़ी जेल्क़िंग करता हूँ तो (या ज़्यादा) दर्द होता है, क्या यह सामान्य है? दर्द की जाँच करें और जानने की कोशिश करें यह क्यों हो रहा है, हो सकता है आपको बस अपने लिंग के निचले हिस्से की झांटे थोड़ी काटने की जरूरत हो। क्या आपको तीखा दर्द होता है या बस हल्का सा कष्ट? क्या आप हॉट–रैप्स लगा रहे हैं? थोड़ा दर्द/कष्ट तो सामान्य होता है और जैसे-जैसे आपके लिंग की संरचना को एक्सर्साइज़ की आदत पड़ती जाएगी, दर्द कम होकर चला जाएगा। कोशिश करें कि आप रुकें नहीं क्योंकि थोड़ा दर्द तो चलता है, लेकिन यदि तीखा दर्द हो रहा हो या इतना कष्ट हो रहा हो कि आप एक्सर्साइज़ कर ही न सकें तो थोड़े दिन रुकें और हॉट-रैप करना जारी रखें।

जेल्क़िंग या स्ट्रेचिंग के समय मैं पूरा खड़ा होने से कैसे रोकूँ?

किसी भी परिस्थिति में पूरा खड़ा होने पर जेल्क़ न करें!

जब आप किसी प्रोग्राम को शुरू कर रहे हों तो आपके लिंग को थोड़े से भी उकसावे से खड़े हो जाने की आदत होती है क्योंकि इसने हमेशा ऐसा ही किया है, कठोर हो जाओ, उत्तेजित हो, चरम सुख पाओ और झड़ जाओ। कुछ हफ्तों से लेकर कुछ महीनों के बाद आपका लिंग इन एक्सर्साइज़ का आदि हो जाएगा और आप खड़ेपन को बेहतर नियंत्रित कर सकेंगे इन पहले कुछ हफ्तों में इसे खड़ा होने पर कुछ सेकंड या मिनट तक रुक कर शांत होने दें। ऐसा करने से कोई नुक्सान नहीं होता क्योंकि आप बस अपने श्रीमान पप्पू (और खुद) को नई एक्सर्साइज़ की आदत डाल रहे हैं। क्या मैं ये एक्सर्साइज़ दिन में दो बार कर सकता हूँ?

किसी भी परिस्थिति में पूरा खड़ा होने पर जेल्क़ न करें!

आपके शरीर के ऊतकों को रिकवर करने का आदर्श समय 48 घंटे होता है (यह ऊतकों के प्रकार पर निर्भर करता है और माँसपेशियों के ऊतक सबसे तेजी से रिकवर होते हैं जबकि नर्व ऊतक सबसे धीमी गति से, 1 से 2 मिमी प्रति माह होते हैं)। यदि आप दिन में एक बार से ज़्यादा एक्सर्साइज़ करेंगे तो आपके पप्पू को रिकवर होने का पूरा समय नहीं मिलेगा और बढ़त पर असर पड़ेगा। मेरा खतना नहीं हुआ है, क्या मुझे इन एक्सर्साइज़ को करते समय कुछ खास करना चाहिए? नहीं, ये आवश्यक नहीं है, आपको बाद दो चीजों पर ध्यान देना चाहिए। पहली, जेल्क़िंग के समय लिंग के निचले हिस्से पर ही रुक जाएँ, और दूसरा, यदि आप चाहें तो अपने दूसरे हाथ से लिंग के ऊपर की चमड़ी नीचे करके वैसे ही जेल्क़िंग करें जैसी आम तौर पर करते हैं।

किसी भी परिस्थिति में पूरा खड़ा होने पर जेल्क़ न करें!

मैं अपनी पीसी माँसपेशियाँ कैसे ढूँढूँ? पीसी माँसपेशी को ढूँढने का एक आसान तरीका यह है: पेशाब करते समय अपने हाथों का उपयोग किए बिना धार रोक लें, और हाँ, ये आपकी एनल स्फिन्स्टर या पेट की माँसपेशियाँ नहीं हैं। कुछ समय बाद आपको ये समझ में आ जाएगा और आप जैसी मर्जी पीसी माँसपेशियों को भींच पाएँगे। नौसीखियों को जितनी बार हो सके अपनी पेशाब रोक कर देखना चाहिए। कुछ दिनों बाद आप जो मर्जी कर पाएँगे। रोज जितने केगल कर सकें, करें। केगल ऐसी एक्सर्साइज़ हैं जिनसे प्यूबोकोसीजेअल (पीसी) मसल्स का व्यायाम होता है।

क्या मुझे हॉट-रैप्स करना जरूरी है?

हॉट-रैप वैकल्पिक नहीं होता क्योंकि इसे करने के दो उद्देश्य होते हैं। पहला, इनसे जुडने वाले ऊतक ढीले होते हैं जिससे ये आसानी से खिंचते हैं और चोट लगने का खतरा कम होता है। दूसरा, हॉट-रैप से लिंग में रक्त का प्रवाह बेहतर हो जाता है जिससे लिंग में पोषक पदार्थ ज्यादा मात्रा में पहुँच पाते हैं।

मुझे मेरे पहले नतीजे कब से मिलने लगेंगे?

अधिकतर लोगों को दूसरे हफ़्ते से अपने पहले नतीजे मिलने लगते हैं और कुछ लोगों को दूसरे महीने के बाद तक रुकना पड़ता है वहीं कुछ लोगों को तो पहली बार एक्सर्साइज़ करने के बाद से ही फायदा होने लगता है। खड़े लिंग की तुलना में शिथिल अवस्था की बढ़त पहले दिखती है क्योंकि आपका लिंग बढ़ चुके रक्त-प्रवाह का आदि हो जाता है। मेरे पास सभी एक्सर्साइज़ एक साथ करने का समय नहीं है, क्या मैं उन्हें दिन में कई बार करके कर सकता हूँ? जी हाँ, हम जानते हैं कि कई बार समय निकालना मुश्किल होता है लेकिन यदि आप चाहें तो दिन में समय बाँट कर अलग-अलग एक्सर्साइज़ कर सकते हैं।

मुझे हफ़्ते में सातों दिन एक्सर्साइज़ क्यों नहीं करनी चाहिए?

आपको अपने लिंग को हफ़्ते में दो दिन आराम देना जरूरी है। यह रिकवरी के लिए बहुत जरूरी होता है। आपको रिकवरी के लिए टाइम देना ही होगा। कई लोग बड़ा करने के लिए साल भर लगे रहते हैं लेकिन उन्हें कोई फायदा ही नहीं होता। ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि एक्सर्साइज़ में खिंचने के बाद आपके लिंग के ऊतकों की कोशिकाओं को रिकवर होने और पुनर्निमाण के लिए पर्याप्त समय चाहिए होता है। हर हफ़्ते दो दिन आराम देकर आप यह कर सकते हैं।

मुझे इन तकनीकों को कितने समय तक करते रहना चाहिए?

यदि आप चाहें तो इस प्रोग्राम को हमेशा कर सकते हैं। लेकिन आपका लिंग एक लिमिट से ज़्यादा नहीं बढ़ेगा। आप प्रोग्राम के पहले 6 महीनों में अच्छी बढ़त देखेंगे (कुछ लोगों को ज़्यादा समय लग सकता है) लेकिन इसके बाद लिंग हर साल आधा इंच से ज़्यादा नहीं बढ़ेगा जो ज़्यादा तो नहीं है लेकिन बढ़त है।

क्या आप एक बड़ा लिंग चाहते हैं?
3.6 (71.25%) 16 votes

3 thoughts on “क्या आप एक बड़ा लिंग चाहते हैं?

  1. मुकेश

    मैं ऊपर की गयी टिप्पणी से एकदम सहमत हूँ. मैंने समय बर्बाद करने की जगह १ महीने में अपने हथियार के आकार को बढ़ा लिया जिसे कि अब वास्तविकता में “मर्दों की निशानी” कहा जा सकता है. ७ सेमी. से २० सेमी. तक का सफ़र. प्रमाण के लिए मैं अपनी तस्वीर साझा कर रहा हूँ. हाँ पहले यह बहुत छोटा हुआ करता था जिसके लिए अब मैं बिलकुल भी शर्मिंदा नहीं हूँ.

    Reply
  2. NANDA

    Yeah, it grows. I’m buying a second package now. On the first time, my penis grew 4 cm and in diameter a little too. Now I want to get to a result of 19-19.5 cm.

    Reply
  3. SANDER

    I’ve been using it for a week now. The producer didn’t lie. In 7 days I added 2 cm 🙂

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *