मेल पोटेंसी क्या है – प्राकृतिक रूप से मेल पोटेंसी बढ़ाने के ७ तरीके

By | May 4, 2018
मेल पोटेंसी क्या है – प्राकृतिक रूप से मेल पोटेंसी बढ़ाने के ७ तरीके

About DR. RICHA AHUJA

Physical Health And Behavioural Sciences

अक्सर हम इस बात को स्वीकार करने में मुश्किलों का सामना करते हैं कि दुनिया भर में यौन बीमारियाँ पुरुषों के बीच अपेक्षाकृत अधिक आम हैं. जब कोई व्यक्ति यौन समस्या से ग्रसित हो जाता है, तो यह उसके जीवन पर काफी गहरा प्रभाव डाल सकता है.

पुरुषों में यौन समस्याओं के प्रभाव से न केवल बेडरूम में उनका प्रदर्शन प्रभावित होता है, बल्कि यह उनके जीवन के अन्य क्षेत्रों को भी प्रभावित कर सकता हैजैसे कि उनके आत्मसम्मान को या फिर अपने साथी के साथ यौन संबंध बनाते समय अपने प्रदर्शन को लेकर भी वे परेशान रहते हैं .

पुरुषों में पाए जाने वाली कुछ यौन समस्याएं अंततः उन लक्षणों की ओर चली जाती हैं जिससे अन्य यौन समस्यायें संबंधित होती हैं.

हम इस पोस्ट में विशेष रूप से जिस विषय पर चर्चा करने जा रहे हैं वह है पुरुषों की नपुंसकता , या फिर इसे कड़ेपन की समस्या भी कहा जाता है. किसी भी मर्द को यह समस्या तब अपने चंगुल में जकड़ लेती हैं, जब वह अपने साथी के साथ सम्भोग करने के लिए प्रेरित होता है और सेक्सुअल एंग्जायटी के चलते चुदाई के समय अपने लंड को खड़ा नहीं कर पाता है.

साथ ही, चुदाई की इच्छा में कमी या फ़िर लो सेक्स ड्राइव से भी मर्दों के कड़ेपन की क्षमता प्रभावित होती है; इस तरह से इसका पहले चर्चा किए गए बिंदु के विपरीत प्रभाव होता है.

मेल पोटेंसी बढ़ाने के प्राकृतिक तरीके क्या हैं?

जॉन्स हॉपकिन्स ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि कम से कम १८ मिलियन अमेरिकी पुरुष कड़ेपन की समस्या से प्रभावित हैं, १८.४% वयस्क पुरुषों को इस गम्भीर स्थिति का दंश बेडरूम में भुगतते हुए पाया गया है.

What Is Male Potency

यौन विकारों का उम्र से सीधा संबंध होता है, उम्र बढ़ने के साथ ही कड़ेपन की समस्या में भी वृद्धि दर्ज़ की गयी है, कुछ अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं कड़ेपन की समस्या के विकास में सहायक भी होती हैं.

हृदय रोग, नसों में जमाव, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, मोटापा, चयापचय सम्बन्धी सिंड्रोम जैसी कई अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को कड़ेपन के दोष के साथ जोड़ा गया है. मेयो क्लीनिक के अनुसार].

.अपने आहार की जांच करें

जब हम दिन में व्यस्त होते हैं, तो हम दोपहर के भोजन के दौरान जल्दी-जल्दी के चक्कर में अस्वास्थ्यकर विकल्पों का चयन कर लेते हैं.  भोजन कक्ष में लगी वेंडिंग मशीन आपको बहुत ही आकर्षक लगती है और कम समय के चलते आप लंच ब्रेक में बाहर भी नहीं जा पाते हैं.

कभी आलू चिप्स तो कभी सोडा यहाँ वहां चलता रहता है, और इससे पहले कि आप इस बात को महसूस करें, आप हर दिन अस्वास्थ्यकर स्नैक्स ही खाते रहते हैं. इन खाद्य पदार्थों में शुगर, अस्वास्थ्यकर वसा और अन्य बुरे तत्वों की बहुत अधिक मात्रा होती है जो आपके शारीरिक स्वास्थ्य को तरह – तरह से नुकसान पहुंचाती है.

सुगर आपके रक्त ग्लूकोज के स्तर को बढ़ा देती है, जिससे आपके रक्त में अधिक सुगर की मात्रा दौड़ने लगती है जिससे आप किसी न किसी दुर्घटना को आमंत्रण दे रहे होते हैं, इससे थकान भी होती है. सुगर की शरीर में ज्यादा मात्रा जाने से आपका शरीर इंसुलिन प्रतिरोधक हो सकता है और यहां तक ​​कि आप टाइप मधुमेह से भी ग्रसित हो सकते हैं. अस्वास्थ्यकर वसा आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकती है.

ये खाद्य पदार्थ आपके वजन को बढ़ाते हैं, जो मोटापे का कारण बन सकता है. हेल्थलाइन के मुताबिक, इस बात के पुख्ता सबूत मिले हैं कि कड़ेपन की समस्या का सीधा समबन्ध अस्वास्थ्यकर विकल्पों से भरे आहार से है.

. धूम्रपान बंद करें

Put Down The Cigarettes

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्रों की रिपोर्ट में यह दर्शाया गया है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में लगभग ३६.५ मिलियन वयस्क धूम्रपान करते हैं, जिसमें हर दिन २७.६ मिलियन लोग हर दिन धूम्रपान करते हैं.

धूम्रपान के तार बहुत सी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं से जुड़े हुए हैं और यह हर साल लाखों लोगों की मौत की वजह बनता है. धूम्रपान दिल को बहुत प्रतिकूल तरीके से प्रभावित करता है और श्वसन प्रणाली की विभिन्न समस्याओं का कारण भी बनता है.

इससे रक्तचाप में वृद्धि, अस्थमा के लक्षणों की वृद्धि और दृष्टि सम्बन्धी समस्यायें भी विकसित हो सकती है. धूम्रपान को कैंसर के विकास में सहायक के रूप में भी देखा जाता है.

इन प्रभावों के अलावा, धूम्रपान रक्त वाहिकाओं के आकार को कम करने का कारण भी बनता है, जिससे लिंग तक अच्छी मात्रा में रक्त का पहुँच पाना और भी अधिक कठिन हो जाता है. इससे किसी व्यक्ति की लंड को कड़ा कर पाने की क्षमता एवं कड़ेपन को बरकरार रखने की क्षमता गंभीर रूप से प्रभावित होती है.

.शराब के सेवन में कटौती करें

जबकि हम पदार्थों के दुरुपयोग की बात कर रहे हैं तो, हमें शराब के बारे में भी बात करनी चाहिए. अल्कोहल राष्ट्रीय संस्थान की रिपोर्ट से इस तथ्य का पता चलता है कि लगभग ८६.४% लोगों ने कभी न कभी शराब पी है, वहीं ५६% वयस्क महीने में कम से कम एक बार शराब पीते हैं.

इन आंकड़ों के अलावा, यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि २६.९% अमेरिकी अक्सर शराब पीते हैं. एक गिलास शराब या वाइन कभी – कभी ठीक हो सकता है, लेकिन इन मादक पदार्थों को  बहुत ज्यादा पीने से कई स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं पैदा हो सकती हैं.

अक्सर शराब को पीने से उत्पन्न लक्षणों का सीधा सम्बन्ध कड़ेपन की समस्या से है. यदि आप अक्सर शराब पीते हैं और इस तरह की डरावनी यौन समस्याओं के संकेतों को झेल रहे हैं, तो शराब की मात्रा को कम करने का प्रयास करें.

.कुछ किलो वजन कम करें

मोटापे को अब वैश्विक स्वास्थ्य चिंता माना जाता है, जिसमें से अधिकतर मोटे लोग अमेरिका में हैं. लगभग ३३% अमेरिकी वयस्क मोटापे से ग्रस्त हैं और % अमेरिकी बहुत ही भयंकर तौर पर मोटापे से ग्रस्त हैं.

मोटापा एक गंभीर समस्या है जो शारीरिक और मानसिक कल्याण के क्षेत्रों में बाधा उत्पन्न करता है, साथ ही इससे हृदय रोग की समस्याओं की सम्भावना भी बनी रहती है. मोटापे से ग्रस्त पुरुषों में कड़ेपन की समस्या बहुत तेज़ी से फैलती हुई नज़र आ रही है; इस प्रकार अगर आप अपना कुछ अतिरिक्त वजन कम कर लें तो कड़ेपन की समस्या पर इसका काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है.

.एरोबिक्स का अभ्यास करें

नियमित रूप से व्यायाम करने का हमारे शारीरिक, मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है. व्यायाम से हृदय रोगों में लाभ दिखाई पड़ता है, इससे वजन कम करने में मदद मिलती है और तनाव भी कम होता है.

अमेरिकी जर्नल ऑफ़ कार्डियोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन में पता चला कि सामान्य व्यायाम जैसे कि ६ मिनट हर दिन टहलने का ३० दिन लगातार परीक्षणों में भाग लेने वाले पुरुष प्रतिभागियों की कड़ेपन की समस्या पर सीधा सकारात्मक प्रभाव पड़ा.

. कीगल्स व्यायाम आज़माएं

मेल पोटेंसी क्या है – प्राकृतिक रूप से मेल पोटेंसी बढ़ाने के ७ तरीके

महिलाओं के बीच कीगल व्यायाम काफी लोकप्रिय हैं, क्योंकि उन्हें इससे कई फायदे मिलते हैं, लेकिन पुरुषों को इस तथ्य को नहीं नकारना चाहिए कि इन अभ्यासों से उन्हें भी कई लाभ मिलते हैं.

राइजिंग मास्टर बतलाते हैं कि नियमित रूप से कीगल अभ्यास करने से पुरुषों को उनके स्खलन को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है, यह चरमोत्कर्ष की तीव्रता में सुधार लाता है और यहां तक ​​कि कड़ेपन को भी सुधारने में सहायक होता है.

ऐसा भी प्रतीत होता है कि कीगल की मदद से लंड अच्छी तरह से ऊपर की तरफ खड़ा हो जाता है जिससे आपके लंड का आकार भी थोड़ा बढ़ जाता है.

. कभी कभी छुट्टी ले लें

Take Some Time Off

अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रेस के अनुसार, २०% अमेरिकी वयस्क चरम स्तर पर तनाव को महसूस करते हैं. हाल के ही एक सर्वेक्षण में यह भी पता चला है कि देश में ४४% वयस्कों का मानना ​​है कि अब वे पांच साल पहले की तुलना में अधिक तनाव का अनुभव करते हैं.

तनाव हमारे समग्र स्वास्थ्य के लिए बहुत ही बुरा है और यह केवल हमें मानसिक रूप से बल्कि शारीरिक रूप से भी प्रभावित करता है. हेल्थलाइन इस बात को बतलाता है कि तनाव सीधे कड़ेपन की समस्या में योगदान देता है, साथ ही साथ अप्रत्यक्ष रूप से यह हृदय के स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है, रक्तचाप के स्तर में वृद्धि करता है और आपको अल्कोहल के उपयोग के लिए प्रेरित करता है.

अपने तनाव की रोकथाम के लिए, आपको अब कुछ समय के लिए अवकाश लेना चाहिए जिससे आपके दिमाग को आराम मिल सके. आप अपने तनाव के स्तर को कम करने के लिए मजेदार गतिविधियों में भी भाग ले सकते हैं.

निष्कर्ष

नपुंसकता पुरुषों के जीवन में कई समस्याओं का कारण बन सकती है. चुदाई की शुरूआत होने पर लंड के कड़े न होने से कोई भी मर्द चिंतित हो सकता है, जिससे उसके जीवन में और भी अधिक तनाव उत्पन्न होता है और अंत में उस व्यक्ति में अवसाद के लक्षण भी दिखाई देने लगते हैं.

नपुंसकता से छुटकारा पाने के लिए विभिन्न दवाओं का प्रयोग किया जाता हैं जिनमे से वयाग्रा सबसे प्रचलित दवा है, जो कि लंड में रक्त के अधिक प्रभाव को संचारित करती हैलेकिन यह अक्सर अंतर्निहित समस्याओं को सही करने में कोई भी किरदार नहीं निभाती है और इसके कई भयंकर साइड इफेक्ट्स भी देखने को मिलते हैं.

हमने इस पोस्ट के माध्यम से सरल, प्राकृतिक और आसानी से लागू की जाने वाली युक्तियों को साझा किया है, जिनसे संभावित रूप से आपको हानिकारक दवाओं के प्रभावों की चिंता किए बगैर कड़ेपन की समस्या में सुधार करने में मदद मिलेगी.

 

मेल पोटेंसी क्या है – प्राकृतिक रूप से मेल पोटेंसी बढ़ाने के ७ तरीके
3.4 (67.5%) 8 votes

संबंधित पोस्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *